आखिर विधवा सफ़ेद वस्त्र ही क्यों पहनती है ,जानिए इसके पीछे का सटीक कारण …

हम सभी जानते ही है की विधवा महिलाये हमारे समाज में सफ़ेद वस्त्र ही धारण करती है । इसके पीछे हमारे शास्त्रों में कई कारण भी बताये गए है आईये जानते है की आखिर विधवा महिलाएं सफ़ेद वस्त्र ही धारण क्यों करती है …..

आखिर विधवा सफ़ेद वस्त्र ही क्यों धारण करती है ,गज़ब दुनिया
आखिर विधवा सफ़ेद वस्त्र ही क्यों धारण करती है ,गज़ब दुनिया

1.शास्त्रों में विधवाओं की दोबारा शादी का प्रावधान नहीं लिखा है इसलिए उनके लिए कुछ नियम बनाये गये हैं जिसके पीछे कई ठोस कारण हैं। शास्त्रों के मुताबिक पति को परमेश्वर कहा जाता है और ऐसे में अगर परमेश्वर का जीवन समाप्त हो जाता है तो महिलाओं को भी संसार की माया-मोह छोड़कर भगवान में मन लगाना चाहिए।

2.महिलाओं का ध्यान ना भटके इसलिए उन्हें सफेद वस्त्र पहनने को कहा जाता है क्योंकि रंगीन कपड़े इंसान को भौतिक सुखों के बारे में बताते हैं ऐसे में महिला का पति साथ नहीं होने पर महिलाएं कैसे उन चीजों की भरपाई करेगी इसी बात से बचने के लिए विधवाओं को सफेद कपड़े पहनने को कहा जाता है।

3.विधवाओं को साफ सात्विक भोजन करने को कहा जाता है, उनको तला-भूना, मांस-मछली खाने से रोका जाता है क्योंकि ऐसा माना जाता है कि इस तरह से भोजन इंसान की काम भावनाओं को बढ़ाते हैं इसलिए विधवाओं को इस तरह से भोजन करने नहीं दिया जाता है।

4.देश में कई जगह ऐसे हैं जहां आज भी विधवाओं के बाल काट दिये जाते हैं क्योंकि ऐसा माना जाता है कि केश महिलाओं का श्रृंगार होता है जो कि उसकी खूबसूरती को बयां करते हैं। किसी और पुरूष की नजर उसकी सुंदरता पर ना पड़े इस कारण विधवाओं के बाल काट दिये जाते हैं।