भगवान श्री राम ने आखिर क्यों तोड़ा अपना ही बनवाया राम सेतु ,जानिए रामायण की अनसुनी कथा ….

0
1400

रामायण के बारे में वैसे तो हम सब बाते जानते है और यह भी की श्री राम ने माता सीता को रावण से छुड़ाने के लिए अपनी वानर सेना की मदद से समुद्र पर एक पुल बनवाया था जिसका नाम रामसेतु पड़ा लेकिन क्या आपको यह पता है की इस पुल को श्री राम ने ही तोड़ भी दिया था आईये जानते है आखिर श्री राम ने ऐसा क्यों किया …..

क्यों श्री राम ने तोडा रामसेतु ,गज़ब दुनिया
क्यों श्री राम ने तोडा रामसेतु ,गज़ब दुनिया

पद्म पुराण के अनुसार, अयोध्या का राजा बनने के बाद एक दिन श्रीराम को विभीषण का ख्याल आया। उन्होंने सोचा कि रावण के मरने के बाद विभीषण किस तरह लंका का शासन कर रहे हैं, उन्हें कोई परेशानी तो नहीं है। जब श्रीराम ये सोच रहे थे, उसी समय वहां भरत भी आ गए। भरत के पूछने पर श्रीराम ने उन्हें पूरी बात बताई। बात सुनने के बाद श्रीराम के साथ भरत भी लंका जाने को तैयार हो जाते हैं। अयोध्या की रक्षा का भार लक्ष्मण को सौंपकर श्रीराम व भरत पुष्पक विमान से लंका जाते हैं।

क्यों श्री राम ने तोडा रामसेतु ,गज़ब दुनिया
क्यों श्री राम ने तोडा रामसेतु ,गज़ब दुनिया

जब दोनों पुष्पक विमान से लंका जा रहे होते हैं, तो रास्ते में किष्किंधा नगरी आती है। राम व भरत थोड़ी देर वहां ठहरते हैं और सुग्रीव व अन्य वानरों से भी मिलते हैं। जब सुग्रीव को पता चलता है कि श्रीराम व भरत विभीषण से मिलने लंका जा रहे हैं, तो वे भी उनके साथ हो लेते हैं। रास्ते में श्रीराम भरत को वह रामसेतु पूल दिखाते हैं,जो वानरों व भालुओं ने समुद्र पर बनाया था। जब विभीषण को पता चलता है कि श्रीराम, भरत व सुग्रीव लंका आ रहे हैं तो वे पूरे नगर को सजाने का आदेश देते हैं। विभीषण श्रीराम, भरत व सुग्रीव से मिलकर बहुत खुश होते हैं

क्यों श्री राम ने तोडा रामसेतु ,गज़ब दुनिया
क्यों श्री राम ने तोडा रामसेतु ,गज़ब दुनिया

श्रीराम तीन दिन लंका में रुकते हैं और विभीषण को धर्म-अधर्म का ज्ञान देते हैं और कहते हैं कि तुम हमेशा धर्म पूर्वक इस नगर पर राज्य करना। जब श्रीराम अयोध्या जाने के लिए पुष्पक विमान पर बैठते हैं तो विभीषण उनसे कहता है कि भगवान आपने जैसा मुझसे कहा है, ठीक उसी तरह मैं धर्म पूर्वक राज्य करूंगा, लेकिन इस पुल के रास्ते जब मानव यहां आकर मुझे परेशान करेंगे, उस समय मुझे क्या करना चाहिए।

क्यों श्री राम ने तोडा रामसेतु ,गज़ब दुनिया
क्यों श्री राम ने तोडा रामसेतु ,गज़ब दुनिया

बस फिर क्या था विभीषण के ऐसा कहने पर श्रीराम ने अपने बाणों से उस रामसेतु पूल के दो टुकड़े कर दिए फिर तीन भाग करके बीच का हिस्सा भी अपने बाणों से तोड़ दिया तो विभीषण को भविष्य में किसी तरह की परेशानी न हो और मानव उन्हें किसी तरह से परेशान न कर पाए, इसलिए श्रीराम ने अपना ही बनवाया रामसेतु पूल तोड़ डाला।  दूसरों की इतनी फिक्र करने के कारण ही तो उन्हें मर्यादा पुरुषोतम कहा जाता है।