इतिहास में मुस्लिम लोग भारत पर क्यों करते थे आक्रमण, वजह जानकर चौंक जायेंगे आप

भारत पर लगातार हमले – हम सभी जानते हैं कि पिछले कई सौ सालों से भारत पर लगातार हमले होते आ रहे हैं और ये हमले इतने क्रूरता पूर्वक रहे हैं कि इन हमलों ने ना सिर्फ भारत को आर्थिकतौर पर क्षति पहुंचाई बल्कि उस समय के नागरिकों की भी हत्या की.

 अपनी हवस शांत करने के लिए उनकी औरतों और लड़कियों से बलात्कार किया और उनके धन को लूट कर अपने देश ले गए शातिर लुटेरा तेमूर लंग इसका सबसे अच्छा उदहारण है क्योंकि तेमूर लंग की क्रूरता से तो दुनिया बाकिफ है।

शुरुआत में मुस्लिम आक्रमणकारियों का उद्देश्य सिर्फ भारत को लूटना था लेकिन ११०० ईस्वी के बाद के आक्रमणकारी भारत में शासन करना चाहते थे और उनकी यह मंशा सफल तब हुई जब हिन्दुओं के महान सम्राट प्रथ्विराज चौहान और गौरी के साथ होने वाले युद्ध में प्रथ्वीराज की हार हुई और इसके साथ स्थाई तौर पर शुरुआत हुई भारत में मुस्लिम आक्रमणकारियों की।

सबसे पहले पहले भारत में मुहम्मद गौरी का सेना पति ही शासन करने आया था। और इसके बाद क्रमशः भारत की ओर विदेशी आक्रमणकारियों का आना बढ़ता चला गया और एक बाद एक सुलतान और आक्रमणकारी भारत की ओर कूच करने लगे। इनमें से कई मुस्लिमों ने भारत को जी भर कर लूटा तो किसी ने यहाँ शासन किया।

लेकिन इतिहास को पढने पर एक बात सबसे पहले सामने आती है कि मुस्लिमो का सेक्स के प्रति अत्यधिक आकर्षण रहा है, तभी सभी मुग़ल बादशाह अपने हरम में हजारों की तादाद में वेश्याएं रखते थे। यहाँ आपको एक बात बता दें कि अकबर हफ्ते में एक दिन अपने महल से बाहर निकलते थे और प्रजा को सूचित किया जाता था कि अपने घर की सभी औरतों और लड़कियों को बिना वस्त्र के एक लाइन में खड़ा किया जाए ताकि अकबर अपने हरम के लिए सबसे सुन्दर वेश्या चुन सके। अर्थात वह निर्दोष औरतों को वेश्या बनाया करता था। इसका जिक्र खुद अकबर ने अपनी किताब में किया है, और खुदा से इस कार्य के लिए माफ़ी मांगी है।

दूसरा रीज़न यह है कि मुस्लिम देशो में प्राकृतिक संसाधनों की काफी कमी होती थी, हम सब जानते हैं, वहां ना तो पानी होता है और ना ही उपर्युक्तजमीन इसलिए हमेशा से ही अरब देशों का ध्यान भारत की तरफ रहा है क्योंकि विश्व की ऐसी कोई बात नहीं जो भारत में ना हो। यहाँ जगह के साथ मौसम के मिज़ाज का मज़ा लिया जा सकता है। और इसलिए सुविधाओं के मामले में भी भारत बहुत आगे रहा है, जो अरब देशों के लिए किसी अजूबे से कम नहीं था।

अगर तीसरे कारण की बात की जाए तो हम तो जानते ही है कि खाना या भोजन किसी भी इनसान की बुनियादी जरूरत है। भारत में हर तरह का खाद्य पदार्थ उपलब्ध रहा है। यहाँ पर्याप्त और हर तरह की फसलें होती थी जबकि अरब देश में रेगिस्तान की अधिकता होने से वहां सिर्फ कुछ ही खाद्य पदार्थ उपलब्ध होते थे।

अतः हम कह सकते हैं कि भोजन, कपडा और मकान यह तीनो बुनियादी जरूरते भारत में हमेशा से उपलब्ध थी और इन्ही जरूरतों के लालच में ये आक्रमणकारी हमेशा से भारत के कायल रहे हैं भारत पर लगातार हमले करते रहे ।