जानिए आखिर क्यों चलती है घड़ियाँ क्‍लॉकवाइज ,जानकर हैरान हो जायेंगे …..

छोटी सी दिखने वाली घडी हमारे लिए बहुत ही काम की चीज है अगर विश्वास नही हो तो बस एक दिन बिना समय देखे काम करके देखिये सब सामने आ जायेगा |सामान्यत हम जब भी घडी देखते है तो हम मात्र समय देखकर रुक जाते है | लेकिन क्या कभी आपने यह सोचा है की आखिर ये सही घड़ियाँ क्‍लॉकवाइज ही क्यों चलती है तो आईये आज हम आपको बताते है इसका पूरा सच …….

गज़ब  दुनिया
गज़ब दुनिया

सूर्य से समय की गणना~
आज के आधुनिक काल से हज़ारों साल पहले जब सभ्यताओं का विकास भी नहीं हुआ था उस समय इंसान पूरी तरह से एक मात्र प्रकृति पर ही निर्भर रहता था। मनुष्य अति प्राचीन काल से ही सूर्य की विभिन्न अवस्थाओं को देखकर उसके आधार पर प्रात:, दोपहर, संध्या एवं रात्रि की कल्पना करता था, पूरा समय सूर्य की दशा पर आधारित होता था , दिन के जिस प्रहर में सूर्य जिस दिशा में नज़र आया होता उसी के आधार पर लोगों ने समय की गणना करनी शुरु कर दी। बाद में धीरे-धीरे इंसानों ने समय को थोडा बारीकी से नापने हेतु धूपघड़ियों का प्रयोग शुरू किया। रात के वक्त जब सूर्य नहीं दिखता था तब लोग नक्षत्रों और तारों को देखकर समय का अनुमान लगाते थे, लेकिन इंसान समय को सही तरीके से नापने की हर प्रयास कोशिश में लगा रहा।

गज़ब दुनिया

सनडॉयल का हुआ निर्माण ~
इतिहास के अनुसार प्राचीन ईजिप्‍ट यानि की मिस्र में लोगों ने सूर्य की छाया देखकर समय का अनुमान लगाना प्रारम्भ किया था। लेकिन पहली घड़ी का आविष्‍कार तो ग्रीक में हुआ, इसको ‘सनडॉयल’ कहा जाता था। सनडॉयल एक तरह की प्राचीनतम घड़ी थी जिसमें एक बड़े से गोल चक्‍के पर तिकोना पत्‍ती के आकार का टुकड़ा लगा होता था। इस घड़ी को ऐसे सेट किया जाता था कि उसमें लगी पत्‍ती का एक सिरा नॉर्थ पोल और दूसरा साउथ पोल की दिशा की तरफ ही रहे। इसके बाद समय के साथ जैसे-जैसे सूर्य पूरब से पश्‍चिम की ओर चलता था तो पत्‍ती की छाया सूरज की दिशा के साथ ही क्‍लॉकवाइज बढ़ती थी। बस फिर क्‍या यहीं से क्‍लॉकवाइज घड़ी का आविष्‍कार हो गया और आज तक लोग इसी दिशा में समय की गणना करते हैं।

गज़ब  दुनिया
गज़ब दुनिया

दुनिया में यहाँ उल्‍टी दिशा में चलती है घडी ~
करीब दुनिया के सभी हिस्‍सों में घड़ियों की दिशा क्‍लॉक-वाइज ही है परन्तु पृथ्‍वी का एक हिस्सा ऐसा भी है जहां घड़ी की चाल उल्‍टी ही रहती है। दक्षिणी आकाश की तरफ सूर्य की चाल पश्‍चिम से पूरब की ओर रहती है जिसके चलते यहां की घड़ियां भी एंटी क्‍लॉकवाइज चलती हैं ।

Add a Comment