शादी का लड्डू जो खाए वो पछताए और जो न खाए वो भी पछताए – जाने इसमें कितनी सचाई है

हमारे यहाँ शादी को ले कर एक कहावत है कि ‘शादी का लड्डू जो खाए वो पछताए और जो न खाए वो भी पछताए.’ इसीलिए अधिकतर लोग इसे खा कर पछताने में ही समझदारी समझते  हैं. लेकिन जब भी किसी लड़के/लड़की के मां–बाप उसके लिए वर/वधू ढूंढते जाते हैं, तो वो किस तरह से अपने चेहरे पर नकली मुस्कान के पीछे कई ऐसी बातों को छुपाते हैं जो वे असल में कहना चाहते हैं. अगर यही सच सामने आ जाए तो कैसा लगेगा. देखिए AIB के इस मज़ेदार वीडियो में.
 

Add a Comment