वेश्या ने मोदी जी को लिखा ख़त , जिसे पढ़ कर मोदी जी भी चौक गए ,जानिए पूरा मामला

सुनिधि नाम की एक लड़की जिसने 17 वर्ष की उम्र के प्रेम किया और जब भी हम प्रेम में होते है तो कुछ भी कर गुजरते है हिम्मत इतनी होती है की टक्कर जमाने से ली जा सकती है | सुनिधि ने भी एक लड़के से प्रेम किया और उसके साथ भाग गयी घर ,रिश्ते और सब कुछ छोड़कर अकेली उसके साथ परन्तु उसके बायफ्रेंड ने उसे 60 हज़ार रुपयों में बेंच दिया |जिसे उसके बॉयफ्रेण्ड ने बेचा उस दलाल ने उसे मुंबई के रेड लाइट एरिया में बेच दिया| 6 साल तक उससे वेश्यावृत्ति का कम करवाया गया | उसके साथ लगातार रेप होता रहा, अंततः पुलिस की एक रेड के बाद वो उस नरक से बाहर निकल सकी |

गज़ब दुनिया
गज़ब दुनिया

सुनिधि ने आजाद हो जाने के बाद प्रधानमंत्री मोदी को एक ख़त लिखा |जिसमें उसने बाकी सभी लड़कियों की आजादी मांगी है, जिन्हें रोज खरीदा-बेचा जा रहा है और वेश्यावृत्ति से उनका रेप किया जा रहा है |

थॉमसन रॉयटर्स के अनुसार ख़त में सुनिधी ने लिखा~

रोज लड़कियों को ख़रीदा बेचा जाता है | ये तो मेरी किस्मत थी कि मैं उस नरक से बच निकली, लेकिन जाने कितनी ही लड़कियां हैं जिन्हें रोज झासे में फँसाकर प्रताड़ित किया जा रहा है| प्रधानमंत्री जी से मेरी दरख्वास्त है कि उनके लिए कुछ करें| अधिकतर लड़कियां शहरों की ओर इसलिए आती हैं क्योंकि ये गरीब हैं| इन्हें पैसे चाहिए होते हैं| इन्हें बेचने वाले इनसे कहते हैं कि शहरों मेंतुम्हे अच्छी नौकरी मिल जाएगी | अगर गांवों में ही इन्हें नौकरी मिल जाए तो ये झांसे में न आएं| महिलाओं के लिए प्रधानमंत्री जी और रोजगार के विकल्प पैदा करें, ये मेरा आपसे विनम्र अनुरोध है |

मेरा अपना अनुभव है ,मैं जितने दिन कोठे पर रही, मुझे मारा-पीटा गया, रोज कितनी ही बार मेरा रेप किया गया | जानवरों से भी बुरा बर्ताव किया गया |

गज़ब दुनिया
गज़ब दुनिया

भारत में लगभग डेढ़ लाख लोग हैं, जिन्हें बेचकर जबरन ‘स्लेव ट्रेड’ यानी बंधुआ मजदूर होने पर मजबूर कर दिया जाता है | इसमें लेबर, नौकर और वेश्याएं भी शामिल हैं | अकेले वेश्यावृत्ति में करीब 2 लाख लड़कियां काम कर रही हैं, जिनमें से अधिकतर नाबालिग़ हैं |

गज़ब दुनिया
गज़ब दुनिया

आज भले प्रीती एक कपड़ा फैक्ट्री में काम करती हैं, मगर उन सभी लड़कियों का क्या जो आज भी जबरन इस वेश्यावृति के गंदे जाल में जी रही है | जिन्क्के साथ ना जाने क्या क्या किया जा रहा है जिसकी आप और हां कल्पना भी नही कर सकते है | कल ही हमने हमारी आजादी मनाई मगर इन लड़कियों की आज़ादी का क्या ?
क्या आपको लगता है की जो भी आज़ादी के लिए शहीद हुए थे उन्हें ऐसी आज़ादी चाहिए थी जिसमे जिस्म फरोशी की भी आज़ादी हो ? थोडा सा सजक हो जाईये आज आग पडोसी के घर में है तो कल हमारे घर में भी हो सकती है |

Add a Comment