लोगो ने राक्षस कह कह कर दी इस बच्चे की जिन्दगी बर्बाद , इसकी कहानी जानकर आपका दिल भर आएगा ….

उत्तर प्रदेश के सुदूर गांव में रहने रहने वाला 12 वर्षीय तारिक एक अनोखी बीमारी से पीड़ित है ,इस बीमारी के कारण उसके हाथ इतने बड़े है की उसे अधिकतर लोग राक्षस मानते है | जन्म से इस बीमारी से पीड़ित तारिक को कई मुश्किलों का सामना करना पड़ता है मगर जैसे जैसे वह बड़ा होता जा रहा है उसकी समस्या भी विकट होती जा रही है | तारिक को उसके गाँव वाले किसी ईश्वरीय श्राप से पीड़ित मानते है और उसे राक्षस ,दानव और शैतान के नामे से पुकारते है | भरपूर अन्धविश्वास से कोई भी उसकी इस बीमारी को समझने को तैयार नही है | उसे अपने दोस्तों और पड़ोसियों तक से गन्दा सुनना पड़ता है | अभी तक डॉक्टरो को इस बीमारी के बारे में सही से पता नही चल पाया है ऐसे में कुछ डॉक्टर्स को लगता है की तारिक को ‘एलीफैंट फुट डिसीज़’ यानि की हाथी पैर की बीमारी है |

गज़ब दुनिया

तारिक को अपने छोटे-मोटे कामों के लिए भी दुसरे लोगो पर निर्भर रहता है| तारिक का भाई हरज्ञान उसकी पूरी तरह से देखभाल करता है | उसे खाना खिलाता है, उसे नहलाता है और उसे कपड़े पहनाता है |दुखत बात तो यह है की तारिक को स्कुल में यह कह कर एडमिशन नही दिया की उसके बड़े बड़े हाथो से बच्चे डर जाते है | इसका नतीजा यह है की तारिक को अपनी इस जिन्दगी में कोई शिक्षा नही मिल पायेगी | इस सब के बावजूद भी तारिक का मानना है कि वो इक दिन जरुर ठीक हो जायेगा |

गज़ब दुनिया

तारिक का कहना है की ~
“पहले मेरे कुछ दोस्त हुआ करते थे, लेकिन अब एक भी नहीं है | लोग मेरे हाथों से बहुत डरते हैं | मैं पढ़ना चाहता था लेकिन स्कूल वालों ने मुझे लिया नहीं | लोगों को लगता है कि मेरे बड़े हाथ किसी श्राप की वजह से ऐसे है |वो नहीं जानते कि ये एक बीमारी की वजह से है जो ठीक हो सकती है|हमारे पास इस बीमारी के इलाज के लिए पैसे नहीं हैं,बस इसीलिए मैं ठीक नहीं हो पा रहा हूं | इसका मतलब ये नहीं है कि मैं हमेशा ऐसा ही रहूँगा ,मै एक दिन जरुर ठीक हो जाऊंगा |”

गज़ब दुनिया
गज़ब दुनिया

वैसे देखा जाये तो भारत में यह कोई पहली घटना नही है जिसमे किसी को श्रापित कह के प्रताड़ित किया परन्तु ऐसा कब तक चलता रहेगा ,कब तक हम धर्म और अन्धविश्वास के नाम पर लोगो की जिंदगीयों से खेलते रहेंगे , आखिर कभी तो हमें ऐसे लोगो को प्रेम की नज़र से देखना चाहिए और ऐसे लोगो की सहायता करनी चाहिए | आखिर कब तक कुत्तो की तरह हम अपनी ही रोटी के लिए लड़ते रहेंगे |भगवान न करे कभी हमें ऐसी परिस्तिथी से गुजरना पड़े और हमारे साथ भी कोई ना हो ,दुनिया में बस किसी के भी लिए कुछ बोलना बहुत आसान है मगर किसी के लिए कुछ के दिखाना बेहद मुश्किल , अगर तुम किसी का साथ नही भी दे सकते हो तो उसे परेशान भी मत करो , कहने वाले कह गये है की ‘जिओ और जीने दो’ |

Add a Comment