क्या आप जानते है ओलम्पिक के गोल्ड मेडल में कितने ग्राम गोल्ड होता है?

2419
Loading...
ओलम्पिक तो शुरू हो गया है, अभी पिछले ही दिनों फ्रेंच के एक जिमनास्ट ने एक खेल में अपना बांया पैर गवां दिया। अब शायद ही वो ओलम्पिक में फिर से पार्टिसिपेट कर सकें। हमारे कहने का मतलब ये है कि ओलम्पिक का एक मेडल पाने के लिए खिलाड़ियों को अपनी जान की भी कोई परवाह नहीं होती, और ओलम्पिक खेल में गोल्ड मेडल पाना बेशक हर एक खिलाड़ी की ख्वाइश होती है। बस यही कारण है कि वो इसे पाने के लिए हर सम्भव कोशिश करते हैं।


बात गोल्ड मेडल की करते हैं। शादी हो या शौक ‘सोना’ हरदम ख़रा ही चाहिए। आपको पता है ये ओलम्पिक वाला गोल्ड कितना खरा होता है? या इस सोने की कीमत कितनी होती है। आइये हम इस जानकारी से रू-ब-रू कराते हैं।

1968 से मैक्सिकन ओलंपिक गेम्स के मेडल 6.5 मिली मीटर मोटे, 65.8 मिली मीटर चौड़े और 176.5 ग्राम वज़नी होते हैं। बात अगर लंदन ओलंपिक की करें तो इसके पदक थोड़े बड़े होते हैं जिनका वजन 375 से 400 ग्राम होता है।अगर गोल्ड मेडल की बात करें तो उसमें असली सोना सिर्फ़ 6 ग्राम (24 कैरेट) होता है, बाकी 92.5 ग्राम चांदी और उसके अलावा तांबा होता है। अगर इस मेडल की कीमत लगाई जाए तो वो महज़ 24,467 रुपये का होगा। अगर लंदन मेडल्स की बात करें, तो उसकी कीमत $501 यानी 33,491 रूपये होगी। ओह्ह तेरे की! इतने में तो 10 ग्राम सोना भी नहीं आएगा।

अब जान की कीमत 6 ग्राम सोने से तो बड़ी ही है। पर इस मेडल के पाने के लिए एक जुनून होता है खिलाड़ियों में जो हर किसी में नहीं होता। गोल्ड मेडल पाकर ख़ुद की नज़रों में खु़द की कीमत 10 ग्राम सोने से कहीं ज़्यादा हो जाती है। एक और बात अगर ये मेडल शुद्ध सोने के होते तो इसकी कीमत भारतीय मुद्रा में 50,80,596 होती। एक हम हैं जो इतने बेशर्म हैं कि स्कूल के किसी टेस्ट में कोई 10 रूपये वाला मेडल भी नहीं पाए। अब हमारा सपना था मॉडल बनना तो हम मेडल कहां से लाते।

YOU MAY LIKE
Loading...