ये है मायानगरी की माया – जानिए

0
1978

पहले भी सूरज पूरब से उगता था और अब भी, कुछ चीजें कभी नहीं बदलतीं। इसी तरह पहले भी फिल्मों के लि के वक्त सबकुछ करवाया जाता था और अब भी। अगर विश्वास नहीं होता तो 1951 के ये फोटोज़ देखिए, जो ये बताने के लिए काफी है कि फिल्मों की लाइन लड़कियों के लिए न पहले अच्छी थी और अभी का हाल तो सबकोई जानते ही हैं। ये तस्वीरें Life Magazine के फोटो जर्नलिस्ट ‘जेम्स बुरके’ ने तब खींची थीं, जब डायरेक्टर अब्दुल राशिद करदार अपनी फ़िल्म के लिए एक भारतीय व एक विदेशी लड़की का ऑडिशन ले रहे थे। तो देखिए ‘जेम्स बुरके’ की ये फोटोज़-


 तस्वीरें देखे …


 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here