मास्टर ब्लास्टर सच में हैं हीरो, स्कूल को दिलवाए 76 लाख रुपये

0
28

पश्चिम बंगाल के मिदनापुर (Midnapore) जिले में ये छोटा सा High School है, जिसे अपने इन्फ्रास्ट्रक्चर को बेहतर बनाने के लिए कहीं से भी आर्थिक मदद मिलने की उम्मीद नहीं थी पर इस साल सचिन तेंदुलकर ने इस स्कूल को स्टाफ की प्रार्थना पर 76 लाख रूपये दिलवाए। अब इन पैसों से स्कूल में पुस्तकालय, लैब आदि बनने लगे हैं।



स्वर्णमयी ससमल शिक्षा निकेतन (Swarnamoyee Sasmal Sikhsa Niketan ) के शिक्षक और बच्चे सचिन के फैन तो थे ही पर जो सचिन ने इनके लिए किया है, उसके बाद से उनकी इज्ज़त इन लोगों की नज़र में और बढ़ गयी है। राज्य सभा सांसद होने के नाते, तेंदुलकर ने Member of Parliament Local Area Development (MPLAD) स्कीम के तहत इस स्कूल को ये मदद दी है।


स्कूल के हेडमास्टर Uttamkumar Mohanty कहते हैं कि सचिन ने जो किया है उसके लिए उनका आभार व्यक्त करने के लिए उनके पास शब्द नहीं हैं।

राज्य सभा में कम प्रतिभागिता होने के कारण अकसर सचिन को आलोचनाओं का सामना करना पड़ा है। एक Data Journalism Portal ने तो उन्हें सबसे ख़राब प्रदर्शन करने वाले 10 राज्य सभा सांसदों की सूची में शामिल किया था। तेंदुलकर की उपस्थिति 6% से भी कम रही है, उन्होंने कभी किसी चर्चा में भी भाग नहीं लिया है, जबकि उन्हें 2012 में ही राज्यसभा में मनोनीत किया जा चुका है।

स्कूल के हेडमास्टर अब स्कूल के विकास के लिए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से भी मदद मांगने वाले हैं। स्कूल के प्रशासन ने नए निर्माण के उदघाटन के लिए सचिन को बुलाने का विचार किया है।

NH6 पर स्थित ये स्कूल पचास साल पुराना है, जिसमें 900 बच्चे पढ़ते हैं। 2 वर्ष पूर्व स्कूल प्रशासन ने सांसद प्रबोध पांडा से भी आर्थिक मदद मांगी थी पर कोई मदद नहीं मिल सकी।

फिर उन्होंने सचिन को पत्र लिख कर बताया कि वो स्कूल में बच्चों के लिए पुस्तकालय, लैब, शौचालय वगेरह बनाना चाहते हैं। जवाब भले ही 6 महीने बाद मिला पर जो जवाब आया था उसे देख कर इंतज़ार का दुःख गायब हो गया। सचिन ने लिखा था कि फंड रिलीज़ हो रहे हैं।

source : hindustantimes

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here