विकासशील भारत को विकास की नज़र से देखा जाये तो आश्चर्य होता है कि विकास आखिर हो किस चीज का रहा है,किसी भी चीज का हो रहा हो मगर कम से कम हमारी नज़र का और हमारी सोच तो नही हो...