Tag: शायरी

अटक गयी दुपट्टे में दिल की डोर तो कोई क्या करे…..

लो हम हो गए तुम में सराबोर तो कोई क्या करे । अटक गयी दुपट्टे में दिल की डोर तो कोई क्या करे । पहले ज़माना बसा करता था इस आशियां में अब तुम्हारी गिरफ्त में हर छोर तो कोई क्या...

फ़िराक़ गोरखपुरी की प्रसिद्ध शायरियों का विशाल संग्रह (Firaq Gorakhpuri Best Shayari Collection)

Firaq Gorakhpuri (फ़िराक़ गोरखपुरी) (1896 – 1982 ), Firaq Gorakhpuri / Best Shayari आए थे हँसते खेलते मय-ख़ाने में ‘फ़िराक़’जब पी चुके शराब तो संजीदा हो गए Aaye the hanste khelte may-khaane mein ‘Firaq’ Jab pee chuke sharaab to sanzida ho...

दुआ शायरी- दिल से दुआ करते हैं… Dua Shayari Hindi

ज़िंदगी में न कोई राह आसान चाहिए, न कोई अपनी ख़ास पहचान चाहिए, बस एक ही दुआ माँगते हैं रोज भगवान से, आपके चेहरे पे प्यारी सी मुस्कान चाहिए। कामयाबी के शिखर पर… कामयाबी के हर शिखर पर तुम्हारा नाम होगा,...

बेवफा शायरी…जितना तुम बदले हो…Bewafa Shayari Hindi

जितना तुम बदले हो… माना कि मोहब्बत की ये भी एक हकीकत है फिर भी, जितना तुम बदले हो उतना भी नहीं बदला जाता। तूने ही सिखाई बेवफाई… इल्जाम न दे मुझको तूने ही सिखाई बेवफाई है, देकर के धोखा मुझे...

दर्द तूफ़ान बने….दर्द भरी शायरी Dard Shayari in Hindi

दर्द तूफ़ान बने… दर्द के लम्हे कब हम पर आसान बने, जो दर्द आँसू न बन सके वो तूफ़ान बने। नदिया है मजबूरी की… एक नदिया है मजबूरी की उस पार हो तुम इस पार हैं हम, अब पार उतरना है...

राहत इन्दोरी की प्रसिद्ध शायरियों का संग्रह (Collection of Rahat Indori’s best Shayari in hindi)

राहत इन्दोरी, उर्दू भाषा के विशव प्रसिद्ध शायर एवंम हिंदी फिल्मों के जाने माने गीतकार हैं। इनकी शायरी में बहुत ही सरल उर्दू का प्रयोग किया गया है जो की हिंदी भाषियों के भी आसानी से समझ में आ जाती हैं।...

निदा फ़ाज़ली – बेनाम-सा ये दर्द ठहर क्यों नहीं जाता…Nida Fazali- Benaam-sa ye dard thehar kyon nahi jata in hindi

बेनाम-सा ये दर्द ठहर क्यों नहीं जाता बेनाम-सा ये दर्द ठहर क्यों नहीं जाता जो बीत गया है वो गुज़र क्यों नहीं जाता   सब कुछ तो है क्या ढूँढ़ती रहती हैं निगाहें क्या बात है मैं वक़्त पे घर क्यों...

मुनव्वर राना की बेस्ट शायरियों का संग्रह – Collection of Munawwar Rana’s best Shayari in hindi

यदि हम ग़ज़ल और शायरी के हवाले से माँ कि बात करे तो मुनव्वर राना वो पहले शायर है जिन्होने ग़ज़ल और शायरी को माँ से सम्बोधित किया, न केवल माँ से बल्कि औरत के अन्य रुप बहन और बेटी से...

शायरी संग्रह – मजरूह सुल्तानपुरी शायरी (Best Collection of Majrooh Sultanpuri Shayari)

***** 1 मैं अकेला ही चला था जानिबे-मंजिल मगर लोग आते गए और कारवां बनता गया   Main akela hi chala tha janibe-manzil magar Log aate gaye aur kaarvan banta gaya  ये भी पढ़े : छत्रपति शिवाजी महाराज के सुविचार Shivaji...