Tuesday, January 19, 2021
Home Tags बिहारी के दोहे हिंदी अर्थ सहित

Tag: बिहारी के दोहे हिंदी अर्थ सहित

बिहारी के दोहे हिंदी अर्थ सहित Bihari Ke Dohe With Meaning...

दोहा - दृग उरझत, टूटत कुटुम, जुरत चतुर-चित्त प्रीति। परिति गांठि दुरजन-हियै, दई नई यह रीति।। भावार्थ - प्रेम की रीति अनूठी है। इसमें उलझते तो...