दर्द तूफ़ान बने… दर्द के लम्हे कब हम पर आसान बने, जो दर्द आँसू न बन सके वो तूफ़ान बने। नदिया है मजबूरी की… एक नदिया है मजबूरी की उस पार हो तुम इस पार हैं हम, अब पार उतरना है...