Tag: कहानियाँ ही कहानियाँ

पंचतंत्र की कहानी: चार ब्राह्मण Four Brahmins panchatantra story in hindi

एक गाँव में चार ब्राह्मण रहते थे। उनमे से तीन ब्राह्मणों ने अनोखी विद्याएँ सीख रखी थीं, जबकि एक को कुछ ख़ास नहीं पता था। इसी वजह से बाकी तीनो उसे अज्ञानी वो निरा मूर्ख समझते थे। एक बार तीन विद्वान्...

प्रेरणादायक कहानी – सफलता का रहस्य Secret of Success in Hindi

एक बार एक नौजवान लड़के ने सुकरात से पूछा कि सफलता का रहस्य क्या है। सुकरात ने उस लड़के से कहा कि तुम कल मुझे नदी के किनारे मिलो। वो मिले।फिर सुकरात ने नौजवान से उनके साथ नदी की तरफ बढ़ने...

कथा महाभारत की – यथा दृष्टि तथा सृष्टि – जैसा दृष्टिकोण वैसा सँसार! Mahabharata story in hindi

पाण्डवों और कौरवों को शस्त्र शिक्षा देते हुए आचार्य द्रोण के मन में उनकी परीक्षा लेने की बात उभर आई। परीक्षा कैसे और किन विषयों में ली जाए इस पर विचार करते उन्हें एक बात सूझी कि क्यों न इनकी वैचारिक...

कथा महाभारत की – कलियुग की पाँच कड़वी सच्चाईयाँ Mahabharata Five bitter kaliyuga In Hindi

महाभारत के समय की बात है पाँचों पाण्डवों ने भगवान श्रीकृष्ण से कलियुग के बारे में चर्चा की और कलियुग के बारे में विस्तार से पुछा और जानने की इच्छा जाहिर की कि कलियुग में मनुष्य कैसा होगा, उसके व्यवहार कैसे...

कथा महाभारत की – हम सब निमित्त मात्र हैं Mahabharata We are all excited In Hindi

महाभारत युद्ध चल रहा था। अर्जुन के सारथी श्रीकृष्ण थे। जैसे ही अर्जुन का बाण छूटता, कर्ण का रथ कोसों दूर चला जाता। जब कर्ण का बाण छूटता तो अर्जुन का रथ सात कदम पीछे चला जाता। श्रीकृष्ण ने अर्जुन के...

कथा महाभारत की – कुरु वंश की उत्पत्ति Mahabharata Rise of Kuruvansh Story In Hindi

कुरु वंश की शुरुआत राजा कुरु से हुई थी। वे इस वंश के प्रथम पुरुष थे। राजा कुरु बड़े ही प्रतापी, शूरवीर और तेजस्वी थे। उन्हीं के नाम पर ‘कुरु वंश’ की शाखाएँ निकलीं और विकसित हुईं। एक से एक प्रतापी...

कथा महाभारत की – द्रौपदी और धृष्टद्युम्न के जन्म की कथा Mahabharata Birth of Draupadi & Dhritdyumn Story In Hindi

जब पाण्डव तथा कौरव राजकुमारों की शिक्षा पूर्ण हो गई तो उन्होंने द्रोणाचार्य को गुरु दक्षिणा देना चाहा। द्रोणाचार्य को पांचाल नरेश तथा अपने पूर्व के मित्र द्रुपद के द्वारा किये गये अपने अपमान का स्मरण हो आया और उन्होंने राजकुमारों...

कथा महाभारत की – पाण्डव-द्रौपदी विवाह Mahabharata Marriage Of Pandavas & Draupadi Story In Hindi

अर्जुन द्वारा द्रौपदी को स्वयंवर में विजित कर लिये जाने के पश्चात पाँचों पाण्डव द्रौपदी को साथ लेकर वहाँ पहुँचे, जहाँ वे अपनी माता कुन्ती के साथ निवास कर रहे थे। द्वार से ही अर्जुन ने पुकार कर अपनी माता से...

कथा महाभारत की – इन्द्रप्रस्थ की स्थापना Mahabharata Establishment Of Indraprastha Story In Hindi

द्रौपदी के स्वयंवर से पहले विदुर को छोड़कर सभी पाण्डवों को मृत समझने लगे थे, इस कारण धृतराष्ट्र ने शकुनि के कहने पर दुर्योधन को युवराज बना दिया। द्रौपदी स्वयंवर के तत्पश्चात दुर्योधन आदि को पाण्डवों के जीवित होने का पता...

कथा महाभारत की – कर्ण और अर्जुन का संग्राम और कर्ण वध Mahabharata Karna and Arjuna Struggle and Karna slaughter in hindi

द्रोणाचार्य की मृत्यु के बाद दुर्योधन पुन: शोक से आतुर हो उठा। अब द्रोणाचार्य के बाद कर्ण उसकी सेना का कर्णधार हुआ। पाण्डव सेना का आधिपत्य अर्जुन को मिला। कर्ण और अर्जुन में भाँति-भाँति के अस्त्र-शस्त्रों की मार-काट से युक्त महाभयानक...