Friday, February 26, 2021
Home Tags कवि वृन्द के दोहे अर्थ सहित

Tag: कवि वृन्द के दोहे अर्थ सहित

वृंद का जीवन परिचय,वृंदावन दास के दोहे,नीकी पै फीकी लगै बिन अवसर की बात,वृंद सतसई,कन –कन जोरै मन जुरै, काढ़ै निबरै सोय । बूँद –बूँद ज्यों घट भरै, टपकत रीतै तोय,नीकी पै फीकी लगै बिन अवसर की बात का अर्थ,नीति के दोहे इन हिंदी,दोहे और उनके अर्थ,

Read Also –  कवि वृन्द की जीवनी और उनके दोहे Vrind Biography in Hindi

जानिए आखिर क्यों आते है डरावने सपने ,गज़ब की जानकारी
लंबे समय से पार्ले-जी के पैकेट में नजर आने वाली लड़की कौन है
ये 7 संकेत बताते है कि शुरू होने वाला है आपका बुरा समय

Read Also –

कवि वृन्द की जीवनी और उनके दोहे Vrind Biography in...

कवि वृन्द का जन्म संवत् १७२० के लगभग मथुरा के आसपास हुआ था। आपकी शिक्षा कांशी में हुई थी। बाद में कृष्णगढ़ के महाराज...