सचिन बंसल जिसने भारतीय बाजार को हमेशा के लिए बदल दिया

किसी भी बिजनेस की सफलता के पीछे हमेशा एक नया आइडिया होता है। नए बिजनेस आइडिया आपको सफलता के एक कदम और नजदीक ले जाते हैं। इसी तरह के एक नए बिजनेस आइडिया की शुरुआत 2007 में हुई थी जिसने भारतीय बाजार को पूरी तरह से बदल कर रख दिया था। 2007 में सचिन बंसल को कुछ ही लोग जानते थे लेकिन अब उनका नाम पूरी दुनिया में है। सचिन बंसल ने भारत में ई-कॉमर्स का बिजनेस शुरु किया और आज घर-घर तक फ्लिपकार्ट की पहुंच बन गई है।

ऑनलाइन किताबें सेल करने के बिजनेस आइडिया को सचिन बंसल ने 2007 में फ्लिपकार्ट के रुप में शुरु किया और अब आपको आपकी हर जरूरत का सामान फ्लिपकार्ट पर आसानी से मिल सकता है। यही नहीं सेल के दिनों में यही सामान बेहद कम दाम पर भी आपको मिल जाते हैं। ऐसे ही नई सोच ने सचिन बंसल को भारत का एक सफल उद्यमी बनाया और आज वह लोगों के लिए मिसाल हैं। आइए जानते हैं सचिन बंसल के बिजनेस और उसे शुरु करने की कहानी के बारे में।

आजकल भारत के लोग ऑनलाइन शॉपिंग अधिक करते हैं और फ्लिपकार्ट इंटरनेट पर शॉपिंग करने के शौकीन लोगों की पहली पसंद है। इस आइडिया के मास्टर माइंड सचिन बंसल हैं जिन्होंने पहली ई-कॉमर्स वेबसाइट बनाई। वे आईआईटी ग्रेजुएट हैं और ऐसे व्यापारी हैं जिन्होंने भारत में इंटरनेट शॉपिंग के क्षेत्र में क्रांति लाकर एक इतिहास बना दिया है।

एक आईआईटी ग्रेजुएट जिसके पास कंप्यूटर इंजीनियरिंग की डिग्री हो उसका भविष्य उज्जवल होता है विशेष रूप से तब जब सॉफ्टवेयर का क्षेत्र ऊंचाई पर जा रहा हो। ग्रेजुएशन पूरा करने के बाद उन्हें टेकस्पान कंपनी में नौकरी मिली और उसके बाद उन्होंने विश्व की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी अमेज़ान में काम किया। इन सबके पहले उनकी इच्छा एक प्रोफेशनल गेमर बनने की थी। आज के दौरे में फ्लिपकार्ट की नेटवर्थ 15 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा है।

उन्होंने तथा उनके मित्र बिन्नी बंसल ने भारतीय ई-कॉमर्स वेबसाइट शुरू करने का निश्चय किया। उन्होंने फ्लिपकार्ट की स्थापना की जो भारत की पहली ई-कॉमर्स वेबसाइट थी जो 6 सालों के अन्दर ही भारत की सबसे बड़ी वेबसाइट बन गयी। अन्य बिजनेस की तरह ही फ्लिपकार्ट भी छोटे तौर पर शुरू हुई। दोनों संस्थापकों सचिन और बिन्नी बंसल अपने आइडिया पर कुछ संशय था। प्रारंभिक दिनों में वे दोनों खुद स्कूटर पर लोगों को पुस्तकें डिलीवर करते थे।

उन्होंने इसकी शुरुआत करने की हिम्मत की क्योंकि उन्होंने सोचा कि भारत में इंटरनेट शॉपिंग का दृश्य बेहतर होना ही चाहिए। उन्होंने कड़ी मेहनत की और प्रारंभ में जब फ्लिपकार्ट केवल किताबें बेचने का काम करती थी तब उन्होंने अपनी कंपनी के पैम्पलेट्स बुकस्टोर के बाहर बांटने शुरू किये। प्रारंभिक अवस्था में कई परेशानियों के बाद बुक विक्रेता उनसे जुड़ने लगे और क्रेडिट कार्ड भुगतान की सुविधा के बाद फ्लिपकार्ट ने अन्य चीज़ें जैसे इलेक्ट्रानिक वस्तुएं और लाइफस्टाइल उत्पाद बेचना प्रारंभ किया।

बाद में वर्ष 2014 में सचिन और बिन्नी बंसल ने 2000 करोड़ रुपयों में Myntra.com खरीदा जो एक अन्य शॉपिंग कंपनी थी। महत्वाकांक्षी सचिन के लिए यह सफलता पर्याप्त नहीं थी। भारतीय युवाओं के इंटरनेट के प्रति बढ़ते हुए जूनून को देखते हुए वे फ्लिपकार्ट को $100 बिलियन कंपनी बनाना चाहते हैं। सचिन बंसल इंटरनेट शॉपिंग को छोटे शहरों और गाँवों तक पहुंचाने की चुनौती का सामना कर रहे हैं।

सचिन की शादी प्रिया से हुई है जो एक डेंटिस्ट है और उनका एक चार साल का बेटा है। आज सचिन बंसल भारत के सबसे बड़े ई-कॉमर्स फ्लिपकार्ट के प्रमुख हैं। वह समय-समय पर अपने बिजनेस में नयापन लाने के लिए नए-नए प्रयास करते हैं। हाल ही में उन्होंने लोगों के घर-घर जाकर समान की डिलेवरी की है।