इस मंदिर में की जाती है आधे शिवलिंग की पूजा ,जानिए इसके पीछे की अनोखी कहानी

31017
Loading...

भारत में एक मंदिर ऐसा है जहां भगवान शिव के खंडित शिवलिंग की पूजा की जाती है। यह शिवलिंग झारखंड की गोइलकेरा में महादेवशाल मंदिर में स्थापित है। खंडित होने की वजह से एक ही शिवलिंग के दो हिस्सों की पूजा दो अलग-अलग जगहों पर की जाती है। मान्यता है कि इस शिवलिंग को तोड़ने के कारण एक ब्रिटिश इंजीनियर को अपनी जान गंवानी पड़ी थी।

आधे शिवलिंग की होती है यहाँ पूजा ,गज़ब  दुनिया आधे शिवलिंग की होती है यहाँ पूजा ,गज़ब  दुनिया
आधे शिवलिंग की होती है यहाँ पूजा ,गज़ब दुनिया

कैसे हुआ यहां का शिवलिंग खंडित –

मान्यताओं के अनुसार, लगभग 19वीं सदी में इस जगह पर काम करते हुए कुछ मजदूरों को खुदाई के दौरान एक शिवलिंग दिखाई दिया। जमीन में से शिवलिंग प्राप्त होने पर मजदूरों ने उसे यहीं स्थापित करके आगे का काम बंद करने की बात कही। मजदूरों की बात सुनकर वहां के ब्रिटिश इंजीनियर ने गुस्से में शिवलिंग पर फावड़े से प्रहार कर दिया, जिसके कारण वह शिवलिंग दो टुकड़ों में टूट गया।

आधे शिवलिंग की होती है यहाँ पूजा ,गज़ब  दुनिया
आधे शिवलिंग की होती है यहाँ पूजा ,गज़ब दुनिया
Loading...

उसी दिन चली गई थी इंजीनियर की जान –

कहा जाता है कि इसी गलती के कारण उस इंजीनियर को अपनी जान गंवानी पड़ी। उसी दिन शाम को काम से लौटते समय ब्रिटिश इंजीनियर की मौत हो गई। यह देखकर बाकी सभी ब्रिटिश अफसरों को शिविलिंग के महत्व और चमत्कार पर विश्वास हो गया था।

आधे शिवलिंग की होती है यहाँ पूजा ,गज़ब  दुनिया
आधे शिवलिंग की होती है यहाँ पूजा ,गज़ब दुनिया

दो जगहों पर स्थापित है एक ही शिवलिंग –

खुदाई में जहां शिवलिंग निकला था आज वहा महादेवशाल नाम का शिव मंदिर है। महादेवशाल मंदिर में शिवलिंग का एक आधा हिस्सा स्थापित है और शिवलिंग का दूसरा हिस्सा वहां से दो किलोमीटर दूर रतनबुर पहाड़ी पर मां पाउडी नामक देवी के साथ स्थापित है। रतनबुरू के बारे में कहा जाता है कि फावड़े से प्रहार के बाद शिवलिंग का छोटा हिस्सा उड़कर यहां स्थापित हो गया था।

आधे शिवलिंग की होती है यहाँ पूजा ,गज़ब  दुनिया
आधे शिवलिंग की होती है यहाँ पूजा ,गज़ब दुनिया

150 सालों से हो रही है पूजा –

मान्यताओं के अनुसार, इस शिवलिंग की स्थापना लगभग 150 साल पहले हुई थी, तभी से नियमित रूप से शिवलिंग के दोनों हिस्सों की पूजा की जाती है। परंपरा के अनुसार, पहले शिवलिंग और उसके बाद मां पाउड़ी की पूजा की जाती है।

YOU MAY LIKE
Loading...