bluetooth का नाम तो अपने जरुर सुना होगा ,परन्तु क्या आप जानते है इसका नाम bluetooth ही क्यों पड़ा , जानिए इसके पीछे की कहानी

मोबाइल के दौर में ब्लूटूथ एक बहुत ही अच्छा आविष्कार बनकर सामने आया | Bluetooth ने कई सारी चीज़ों को आसान बना दिया |आज इसका प्रयोग लगभग सभी मोबाइल में होता है| शुरुआती दौर में मोबाइल इस्तेमाल करने वालों की इस तकनीकसे बहुत सी यादें जुड़ी हुयी हैं| उस दौर में जब सोशल मैसेजिंग एप नहीं आए थे, Bluetooth अपने दोस्तों के साथ गाने, वीडियो और फ़ोटोज़ शेयर करने का सबसे आसान ज़रिया था|चूंकि, Bluetooth का इस्तेमाल बेहद सरल था, इसलिए कुछ ही समय में ये तकनीक हर तरफ लोकप्रिय हो गई| लेकिन क्या आपको पता है कि Bluetooth का नीले रंग का चिन्ह कैसे आया और इसका नाम ‘Bluetooth’ ही क्यों रखा गया? तो आइए आज हम आपको इसके बारे में बताते हैं…..

गज़ब दुनिया

Bluetooth का आविष्कार 1994 में हुआ था| इसे स्वीडन की दूरसंचार कम्पनी ‘Ericsson’ ने बनाया था | इस कम्पनी के इंजीनियर्स ने आपसी सहयोग से Bluetooth तकनीक को इजाद किया| Bluetooth के नाम और नीले सिम्बल के पीछे एक दिलचस्प किस्सा है|

गज़ब दुनिया

दसवीं शताब्दी में डेनमार्क के एक राजा Harald Blatand हुए थे | Blatand को Blueberries बहुत पसंद थी | ज़्यादा Blueberries खाने के कारण राजा के दांत भी नीले से पड़ गए थे | उसी राजा को ध्यान में रखते हुए इस डिवाइस का नाम Bluetooth रखा गया| इसके अलावा राजा के नाम को Scandinavian Runes में Hagal Bjarkan लिखा जाता है| इसी नाम के पहले दोनों अक्षरों, H और B को मिलाकर Bluetooth का चिन्ह बनाया गया है|

गज़ब दुनिया

आज वही Bluetooth डिजिटल युग का एक अहम हिस्सा बन चूका है | साल 2000 तक सिर्फ़ 5% डिवाइसेज़ में Bluetooth आता था, जबकि आज ये लगभग 95% डिवाइसेज़ में आता है आज हर कोई यूज़ करता है Bluetooth, लेकिन क्या आपको पता है कैसे पड़ा इसका ये नाम? है. Bluetooth तकनीक का प्रयोग करके हेडफ़ोन से लेकर माउस, की-बोर्ड, प्रिंटर को कम्प्यूटर और फ़ोन जैसी डिवाइसेज़ से जोड़ा जा सकता है|इस बेहतरीन तकनीक ने डिजिटल क्रान्ति लाने में सबसे अहम भूमिका निभाई है |

Add a Comment