सांप काटने के तुरंत बाद यह काम करने से कम हो सकता मौत का खतरा.. पढ़िए

0
3390

कई सांप इतने जहरीले होते हैं कि अगर किसी व्यक्ति को काट ले तो वह वहीं पर दम तोड़ देता है। इसलिए एक कहावत भी बनी है कि काले सांप का काटा हुआ पानी भी नहीं मांगता। भारत में सांपो के काटे जाने के कारण सैकड़ों लोग हर साल अपनी जान गंवाते हैं। इन मौतों का एक कारण जानकारी का आभाव भी है। 

अगर उन्हें इस बारे में ठोक जानकारी हो तो वे अपनी जान बचा सकते थे। दरअसल सांपो के विष को मनुष्य के शरीर से निष्क्रिय करने के लिए कई तरह की औषधियां बनाई जाती हैं। इन औषधियों को बनाने के लिए सांपो के दांतों को भी प्रयोग में लाया जाता है। इसके अलावा कई देशों में सांप की खाल और दांतो की तस्करी विस्तृत स्तर पर की जाती है।

जानकारी के मुताबिक भारत में सांपों की कुल 550 कैटेगिरजी हैं। इनमें से 10 सांप बेहद जहरीले होते हैं। सबसे जहरीला सांप रसेल वाइपर है। इसके बाद नाम आता है वाईपर और किंग कोबरा जो दिखने में भी भयानक लगते हैं। किंग कोबरा को लोग काले नाग के नाम से जानते हैं। जब सांप किसी व्यक्ति को काटता है तो उसके शरीर में उसके जहर को पूरी तरह से फैलने में करीब 3 घंटे का समय लगता है। अगर इन तीन घंटों में व्यक्ति को प्राथमिक उपचार नहीं मिला तो उसकी जान भी जा सकती है।

Loading...

लेकिन अगर थोड़ी गंभीरता और होशियारी से काम लिया जाए तो इससे बचा जा सकता है। एक दवा है जो सांप के जहर के लिए रामबाण इलाज है। इसका नाम है नाजा त्रिपुदियंस। यह एक होम्योपैथिक दवाई है। यह आप किसी भी मेडिकल स्टोर से खरीद सकते हैं। इस दवाई को दुनिया के सबसे खतरनाक सांप क्रैक के जहर से बनाया गया है। इस दवा की एक-एक बूंद को हर 10-10 मिनट में अपनी जबान पर रखते रहें। यह प्रक्रिया कुल 3 बार करें। ऐसा करने से सांप के काटने से पीड़ित व्यक्ति को राहत मिलेगी।

YOU MAY LIKE
Loading...