बहन ने सूझबूझ से बचाई करंट से तड़पते भाई की जान

अपने चचेरे भाई को करंट की चपेट में आकर तड़पता देखकर उसकी बहन ने सूझबूझ का परिचय देते हुए न केवल जान बचाई बल्कि विपरीत परिस्थिति में घबराना नहीं चाहिए, यह संदेश भी समाज को दिया।
जिला मुख्यालय से 9 किलोमीटर दूर बालोद जिला के गुरुर ब्लॉक अंतर्गत ग्राम पेंडरवानी निवासी डेमन लाल साहू के पुत्र लोमेश कुमार (6 वर्ष) सोमवार को घर में पड़े विद्युत वायर से खेल रहा था। खेलते-खेलते वायर को प्लग में लगा दिया, जिसमें विद्युत सप्लाई होने से वह करंट में चिपक गया। जमीन में तड़प रहा था। उस समय घर में कोई नहीं था। बालक अकेला था। तभी बालक के बड़े पिता छबिलाल साहू की 14 वर्षीय पुत्री यामिनी साहू स्कूल से खाना खाने पहुंची। घर का दरवाजा खोला, तो लोमेश जमीन में करंट से चिपककर तड़प रहा था।
 
हिम्मत दिखाकर लकड़ी से हटाया
भाई को करंट से चिपकता देखते ही यामिनी ने अपनी सूझबूझ से विद्युत का बटन बंद किया। वहां रखे एक सूखी लकड़ी से बालक को वायर से अलग किया, तो बालक करंट के झटके से दीवार में जा गिरा। तब बालक की गंभीर स्थिति को देखकर यामिनी ने पड़ोसियों को इसकी जानकारी दी।
घटना की खबर पाकर कामदेव साहू व अन्य पड़ोसियों ने तत्काल लोमेश को दूध पिलाया और काम करने खेत गए उसके माता-पिता को घटना की जानकारी दी। तब गंभीर हालत में पिता डेमन लाल साहू, बड़े पापा छबिलाल साहू और कामदेव साहू ने लोमेश को मोटरसाइकिल से बठेना अस्पताल धमतरी में लाकर भर्ती कराया, जहां कुछ समय बाद बालक की स्थिति में सुधार आया।
 
दोनों हाथ-पैर झुलसे
लोमेश के शरीर में करंट इतना फैल गया था कि उसके दोनों हाथ की ऊंगलियां बुरी तरह झुलस गई है। दोनों पैर में फोड़े आ गए हैं। करंट से हटाने के बाद दीवार से टकराने से बालक के सिर में चोट आई है। डॉक्टरों के अनुसार करंट से बालक के शरीर में ब्लड की कुछ मात्रा सूख जाने से शरीर में कमजोरी उत्पन्न हो गई।
 
साहस की हो रही प्रशंसा
चचेरे भाई लोमेश की जान बचाने वाली बड़ी बहन यामिनी साहू शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला पेंडरवानी में कक्षा 9वीं में अध्ययनरत है। कम उम्र और उसकी समझबूझ की ग्रामीण प्रशंसा कर रहे हैं। एक ओर जहां महिला व कोई लड़की छोटी-छोटी घटनाओं को देखकर सहम या डर जाती हैं, वहीं यह छात्रा तड़पते मासूम की स्थिति को देखकर नहीं डरी। साथ ही अपनी जान जोखिम में डालकर बालक को करंट से अलग किया।

गज़ब दुनिया यामिनी साहू को सलाम करती है और चाहती है कि आप भी इस पोस्ट को शेयर कर के अपने दोस्तों को हौसले की मिसाल यामिनी साहू के बारे में ज़रूर बताएं.


source & copyright © : naidunia
YOU MAY LIKE