जानिए पानी से जुड़े उन सवालों के जवाब जो कर रहे है आप को परेशान

जल के बिना हमारा कोई अस्तित्व नही है क्युकी जल ही जीवन है | वैसे तो हमारे लिए जल बहुत आवश्यक है मगर बहुत से लोग मानते है की पानी जितना पियो उतना कम है यह एक बहुत बड़ी समस्या है क्युकी अति हर चीज़ की बुरी होती है चाहे वो पानी हो या भोजन |पानी कार्बोहाइड्रेट्स, प्रोटीन और वसा के समान ही पोषण का काम करता है। पानी हमारे घुटनों, कलाई और सभी भागों की चिकनाई के सभी जोड़ों को स्‍वस्‍थ रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। आज हम अपको पानी से ही जड़े कुछ ऐसे तथ्य बतायेंगे जिससे आपके स्वास्थ्य में बहुत लाभ होगा ….

गज़ब दुनिया

1.ज्‍यादा पानी से नुकसान होता है?

जी बिलकुल ,आप अपने शरीर से पसीने, मलमूत्र और सांसों आदि के जरिए जितना पानी निकालते हैं उससे ज्यादा पानी पीना नुकसानदेह हो सकता है। पानी का ओवरडोज किडनी को अनावश्‍यकता कार्य देना है इसलिए पानी को कभी भी बहुत अधिक मात्र में न पिए |

2.जिम जाने वालों को ज्यादा पीने की जरूरत होती है?

आपकी गतिविधियां आपकी पानी पीने की क्षमता को निर्धारित करती हैं। प्रति 100 कैलोरी सेवन पर आपको आधा गिलास या 100 मिमि. पानी पीना बहुत सही रहता है । इसी के हिसाब से थोड़ा ऊपर नीचे हो तो कोई भी दिक्कत नही होती है। अगर आप ज्‍यादा दौड़ भाग करते हैं या चलते-फिरते हैं, तो उसमें 500 से 1000 तक कैलोरी और जुड़ जाती चाहिए। अगर आप जिम जाते हैं तो ऐसे में आपको अधिक से अधिक पानी पीना चाहिए।

 

गज़ब दुनिया

3.महिलाओं और पुरूषों को कितना पानी पीना चाहिए?

महिलाओं और पुरूषों के पानी पीने की आवश्‍यकता उनके बीएमआर और एक्टिविटी लेवल पर निर्भर करती है। साधारणतयाः जिम न जाने वाले व्यक्ति को 500 कैलोरी और जिम जाने वाले को 1000 कैलोरी के हिसाब से ही पानी पीना सही रहता है । 100 कैलोरी के लिए 100 एमएल पानी पीना जरूरी है। एक स्‍वस्‍थ व्‍यक्ति के लिए दिन भर में 12-13 गिलास पानी पीना र्प्याप्त होता है।

4.क्‍या पानी पीने से चेहरे की झुर्रियां दूर की जा सकती हैं?

जी बिलकुल, कुछ हद तक तो यह सही है। पानी पीने से चेहरे पर नमी बनी रहती है। वैसे भी एक निश्चित अंतराल के बाद स्किन को ठीक रहने और हेल्दी बनाने के लिए पानी पीने की सलाह दी जाती है।

गज़ब दुनिया

5.गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिला को दिनभर में कितना पानी पीना चाहिए?

पानी गर्भवती के लिए भी बहुत अहम न्यूट्रिशन का कम करता है। गर्भधारण के समय इसके अलग-अलग रूपों में प्रभाव पड़ते हैं। यह मिसकैरिज, कब्ज और रक्त स्राव को भी रोकता है। महिला को गर्भ के तीसरे महीने में दोगुने रक्त की आवश्यकता होती है क्योंकि किडनी का काम ऐसे में अधिक बढ़ जाता है। ऐसे में फ्लूड की जरूरत भारी मात्रा में पड़ती है। गर्भवती महिला को दिन में जूस व अन्‍य पेय पदार्थों के साथ कम से कम 13 से 14 गिलास पानी पीने की सलाह दी जाती है। स्तनपान कराने वाली महिलाओं को तरल पदार्थों पर खासा ध्यान देना चाहिए। जब भी वे फीड कराएं उससे पहले एक गिलास पानी पीना काफी लाभदायक होता है, यह फीडिंग के दौरान हुई फ्लूड की कमी को पूरी करता है।

6.खाने से पहले और बाद में क्या पानी पीना चाहिए?

हमारे शरीर में एन्जाइंम से पानी का कार्य नहीं पूरा होता क्योंकि यह हमारे पाचन तंत्रों में मिक्स नहीं हो पाता। पानी तो शरीर में जाने वाले पौष्टिक आहार को टुकड़ों में विभाजित करता है। इसीलिए भोजन करने से कुछ समय पहले पानी पीने की सलाह दी जाती है। वैसे तो हमें भोजन से कम से कम 30 मिनट पहले पानी पीना चाहिए तथा भोजन से कम से कम 1 घंटा 30 मिनट बाद यह आपके पाचन में बहुत सुधार करेगा और कब्ज जैसे रोग नही होंगे |

Add a Comment