बलात्कारी बाबा रहीम ने जेल में भी अपनी अपनी गोद ली गई बेटी साथ रखने की मांग की आखिर क्यों

रोहतक। इसे कहते हैं कि रस्सी जल गई लेकिन बल नहीं गया, जी हां, आपने सही समझा, यहां बात हो रही है रेप केस में दोषी पाए गए डेरा सच्चा प्रमुख गुरमीत राम रहीम की। आज चंद घंटों के बाद उसे सजा हो जाएगी लेकिन इसके बावजूद उसके तेवरों में कोई कमी नहीं आई है। 

आज तक की खबर के मुताबिक राम रहीम को जब पुलिस, सीबीआई की विशेष अदालत में बलात्कारी घोषित होने के बाद, रोहतक जेल ले गई तो उसके बाद भी राम रहीम के चेहरे पर कोई शिकन नहीं थी। जेल पहुंचने के बाद उसने जेल में अपनी गोद ली गई बेटी हनीप्रीत को साथ रखने की मांग की थी।

हनीप्रीत एक्यूप्रेशर की एक्सपर्ट है… उसने कहा कि मेरे कमर में काफी दर्द रहता है और हनीप्रीत एक्यूप्रेशर की एक्सपर्ट है इसलिए उसे मेरे साथ यहां रखने दें हालांकि अधिकारियों ने उसकी एक नहीं सुनी। मालूम हो कि जिस वक्त पुलिस राम रहीम को अरेस्ट करके हेलिकॉफ्टर से जेल ले गई थी, उस वक्त भी उसकी बेटी उसके साथ थी। हनीप्रीत को साथ रखना चाहता था इस बारे में बात करते हुए हरियाणा के डीजीपी ने बीएस संधू ने मीडिया को कहा कि डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम जेल में अपने साथ दत्तक पुत्री हनीप्रीत को रखना चाहता था।

कोर्ट के अनुसार इस बारे में फैसला हरियाणा या जेल प्रशासन करना था। जिसने फैसला लेते हुए हनीप्रीत को जेल में रखने की इजाजत नहीं दी।

डेरा सच्चा सौदा की कमान मिल सकती है –  आपको बता दें कि हनीप्रीत, राम रहीम की गोद ली हुई बेटी है और वो अपने पिता के साथ साए की तरह रहती है और आशा जताई जा रही है कि उसे ही राम रहीम के बाद डेरा सच्चा सौदा की कमान मिल सकती है।

पापा की परी – वो खुद को ट्विटर और फेसबुक पर पापा की परी, परोपकारी, निर्देशक, एडिटर, अभिनेत्री और डेरा की सच्ची सेविका बताती है।ट्विटर पर उनके दस लाख से ज्यादा और फेसबुक पर पांच लाख से ज्यादा फॉलोवर हैं। असली नाम प्रियंका तनेजा हनीप्रीत का असली नाम प्रियंका तनेजा है, उसे वर्ष 2009 में राम रहीम ने हरियाणा के फतेहाबाद जिले में गोद लिया था। हनीप्रीत ही राम रहीम के सोशल अकाउंट संचालित करती है और उसका ही डेरा पर राज चलता है।