12 साल की लड़कियों का 200 साल पुराना ऐसा वेश्यालय जिसकी हकीकत आपको अन्दर तक हिला के रख देगी ,पढ़िए इस वेश्यालय की कहानी

हमारी तरक्की के पैर इतने बड़े हो गये है की इसके इसके नीचे कब इन्सान कुचला जाता है किसी को पता ही नही चलता ,और कुछ महाशय तो इन्हें इन्सान ही नही मानते | वैसे तो आज जब भी हम किसी के सामने वेश्या की बात करते है तो कुछ लोगो कान खड़े हो जाते है और कुछ लोगो का तो ना जाने क्या क्या ! खैर जो भी हो मगर आज हम कहानी लाये है ऐसे वेश्यालय की जहाँ की दीवारे 200 साल से अपने अन्दर कितना ही दर्द समेटे बैठी है |

बांग्लादेश के तंगैल जिले का कांडापारा वेश्यालय अंग्रेजी शासनकाल के दौरान अस्तित्व में आया था बांग्लादेश का यह वेश्यालय 200 साल पुराना और दूसरा सबसे बड़ा वेश्यालय है| यह वेश्यालय बांग्लादेश की तंग गलियों में टिन की छतों से निर्मित है जहाँ छोटी-छोटी सीलन भरी कोठरियां है | यहाँ की औरते इन्ही छोटी सी कोठरियों में रहकर जिस्म का व्यापार करती है और यही उनकी सारी उम्र कट जाती है | उनकी जिन्दगी में कोई ओर लक्ष्य ही नही है सिवाय अपने ग्राहक के सामने पेश हो जाने के |

गज़ब दुनिया
Loading...

2014 में यह वेश्यालय हटा दिया गया उसके बाद इन्हें काफी समस्याओं का सामना करना पड़ा | कुछ समय पश्चात् वहा के एक लोकल एनजीओ ने इनका इलाका फिर से बसाया तब जाकर फिर से वे औरते वहां रहने लगी | इसके बावजूद भी वहां कोई ध्यान नही दिया जाता जैसे की वह हिस्सा शहर से मानो अलग ही हो | कई बड़े लोग भी इन तंग गलियों में अपना आराम देखने जरुर आते है मगर इसके लिए कोई आवाज़ नही उठता है |

गज़ब दुनिया

सारी हदे तो तब पार हो जाती है जब 12 से 14 साल की कम उम्र की मासूम लड़कियों को भी इस खेल का मौहरा बना दिया जाता है | वजह तस्करी या गरीबी के अलावा कोई ओर नही है | इन छोटी लड़कियों को कोठे की सीनियर वेश्याएं उनके ग्राहकों के सामने पेश करती है | खरीदी हुयी लड़कियों की कीमत इसी तरह वसूल की जाती है | यहाँ कम उम्र की लड़कियों को न तो कही बाहर जाने दिया जाता है और ना ही वो किसी भी ग्राहक के लिए मना कर सकती है | आखिर जब लड़की को जितने पैसे में ख़रीदा गया था उतने पैसे पुरे होने पर उसको काफी सारे हक़ दे दिये जाते है जैसे की वो किसी ग्राहक को मना कर सकती है और अपनी कमाई का एक मोटा हिस्सा अपने पास रख सकती है

गज़ब दुनिया

इतनी कम उम्र में लड़कियों को पेश करने के कारण वो गर्भवती भी हो जाती है जिसके कारण उनको बहुत सारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है | एक उम्र के बाद उनको ग्राहक मिलने भी बंद हो जाते हैं तो अपना गुजारा चलाना भी भारी पड़ता है क्योंकि बाहर की दुनिया इन्हें नहीं अपनाती । सरकार की ओर से इनके लिए सड़क, बिजली, पानी जैसी कोई कोई भी पूर्ति नही की जाती है जैसे की सरकार को इनकी जरूरत ही नहीं इस इलाके को देखिए तो लगता है कि ये शहर का हिस्सा ही नहीं है। ना यहां कोई पक्की सड़के हैं, ना बिजली-पानी का कोई भी इंतजाम । रही कहि कसर में ऊपर से टिन की छतें गर्मी, सर्दी, बरसात हर मौसम में सताती हैं। इसके बावजूद यहाँ लड़कियों को डाल दिया जाता है इनका कोई सामाजिक जीवन नही है और कोई लड़की सामाजिक जीवन अपनाना भी चाहे तो यह समाज उन्हें नही अपनाता जिससे कई लड़कियों को मजबूरन ऐसे ही अपनी उम्र गुजारनी पड़ती है |

गज़ब दुनिया

वहां की सरकार को इनके लिए भी सारी सुविधाओ की व्यवस्था करनी चाहिए और ऐसे लोगो को पकड़ कर सजा देनी चाहिए जो इतनी मासूम लडकियों की तस्करी करते है या उन्हें अपने इस काले धंधे में शामिल करते है | और एक निवेदन सभी से की कृपा करके किसी के घर लड़की पैदा हो तो उसे कही सड़क पर या कचरे में मत छोड़ आना क्युकी क्या पता कल आपकी ही कोई बेटी ऐसे वेश्यालयों में अपनी सारी उम्र गुजार दे |

YOU MAY LIKE
Loading...