लाशों का सौदागर था बाबा राम रहीम? खट्टर सरकार ने दिए जांच के आदेश

0
236

सिरसा स्थित गुरमीत राम रहीम के डेरा सच्चा सौदा आश्रम में सर्च ऑपरेशन जारी है और आशंका जताई जा रही है कि डेरे में ढेरों लाशें दबी हैं. इस बीच दुष्कर्मी बाबा के नए कुकर्म लगातार सामने आते जा रहे हैं. इसी कड़ी में डेरे से लाशों का सौदा होने का खुलासा हुआ है. इस नए खुलासे की विस्तृत जांच होगी तो पता चलेगा कि कैसे बाबा आश्रम की आड़ में लाशों का सौदागर बना बैठा था।

जिस जगह पर बाबा ने आश्रम बनवाए, जहां बड़े बाजार, मॉल, सिनेमा हॉल, रिजॉर्ट बनवाए, उन्हीं ठिकानों से होकर लाशों की ऐसी कहानी छनकर आ रही है, जो बाबा के लाशों के सौदागर होने की ओर इशारा कर रही हैं. डेरे में जमीन के अंदर नर कंकालों की मिस्ट्री से पर्दा उठेगा तो बाबा के गुनाहों की फेहरिश्त लंबी चौड़ी होती जाएगी।

आश्रम में छापेमारी के दूसरे दिन शनिवार को लाशों के सौदे की खबरों ने हड़कंप मचा दिया है. पता चला है कि सिरसा के इसी आश्रम से 14 लाशें लखनऊ के एक प्राइवेट मेडिकल कॉलेज को भेजी गई थीं. बाबा की तिलिस्मी दुनिया से लाशों के सौदे का यह खेल कब से चल रहा था? उन 14 लाशों का राज क्या है? ऐसे कई सवालों के जवाब मिलने हैं।

Loading...

लेकिन इस खुलासे के बाद सियासी हलके में भी हड़कंप मच गया है। एक-एक सच जानने के लिए हरियाणा सरकार ने जांच बिठा दी है। स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने लाशों के कथित सौदे की जांच के लिए आदेश दे दिए हैं। हरियाणा के स्वास्थ्य महानिदेशक सतीश अग्रवाल लाशों के इस सौदे पर पर रिपोर्ट देंगे।

सिरसा के आश्रम में शुक्रवार से तलाशी चल रही है। जांच एजेंसियों की थ्योरी में एक एंगल उन गुमशुदा लोगों को लेकर भी है जो बाबा के आश्रम में सत्संग सुनने आते थे, लेकिन आज तक अपने घर नहीं लौटे। जानकारी ऐसी भी है कि डेरा में आने वाले तमाम श्रद्धालुओं से बाबा बाकायदा एफिडेविट लिखवाता था। इस एफिडेविट में लिखा होता था कि उसकी मौत के बाद शव पर उसके परिवार का नहीं बल्कि डेरा का हक होगा। ऐसे में 14 लाशों को लखनऊ के मेडिकल कॉलेज भेजे जाने पर शक-शुबहा की जड़ें गहरी होती जा रही हैं।

जांच एजेंसियों को ये भी शक है कि बाबा के डेरों से नर-कंकालों का सौदा भी किया जाता था। हालांकि इस एंगल पर पुलिस गंभीरता से तथ्यों और सबूतों को खंगाल रही है। शनिवार को सर्च ऑपरेशन के दौरान बाबा की कई फैक्ट्रियों पर छापेमारी हुई। पुलिस ने बाकायदा इसकी वीडियो रिकॉर्डिंग करायी है।

इससे पहले शुक्रवार को चले सर्च ऑपरेशन के दौरान डेरे से मिले ये सामान

– सर्च टीम को 1200 नए नोट, 7000 पुराने नोट मिले हैं जिनकी कुल कीमत चंद हजार से ज्यादा नहीं होगी।

– प्लास्टिक की करेंसी मिली है जिसका इस्तेमाल डेरा के अंदर होने वाली सामानों की खरीद-फरोख्त में होता था।

– टेलीविजन प्रसारण में इस्तेमाल वाला ओवी बैन मिला है।

– बिना नंबर वाली काले रंग की लेक्सस लग्जरी कार मिली है।

– कंप्यूटर, लैपटॉप, हार्ड डिस्क मिले हैं जिनसे कुछ सुराग मिल सकते हैं।

– भारी मात्रा में बिना लेवल वाली दवाइयां भी मिली हैं। हो सकता है इनका इस्तेमाल समर्थकों को झांसा देने में होता हो।

– डेरा सच्चा के दो कमरों को सर्च टीम ने सील कर दिया है।

– डेरे से 2 नाबालिग समेत 5 लोग मिले।

अभी तो ये शुरुआत है। राम रहीम के अधर्मकांड के कई अध्याय आगे खुलेंगे। लेकिन बडा सवाल है कि ये सर्च अभियान 15 दिन बाद शुरू हुआ है। चश्मदीद कह रहे हैं बाबा ने ट्रकों में भर-भरकर जुर्म के सबूत डेरा से बाहर भेज दिए हैं।

– शुक्रवार की सुबह साढ़े 10 बजे के करीब सर्च टीम डेरा सच्चा सौदा के भीतर दाखिल हो गई।

– सर्च टीम पहली बार गुरमीत सिंह के उस रहस्यमयी गुफा में भी दाखिल हुई जिसके बारे में कई कहानियां हैं।

– सर्च टीम ने राम रहीम के ध्यान सेंटर की भी तलाशी ली।

– डेरा के भीतर बने प्रिंटिंग प्रेस, गेस्ट हाउस, एमसीजी मार्ट की छानबीन से भी सर्च टीम को कई सबूत मिले हैं।

– हनीप्रीत के नाम पर राम रहीम ने बाकायदा गारमेंट फैक्ट्री लगाई है, सर्च टीम वहां भी गई।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here