मुल्ला नसरुद्दीन और पड़ोसी Mullah Nasruddin And Neighbors Hindi Story

एक पड़ोसी मुल्ला नसरुद्दीन के द्वार पर पहुंचा। मुल्ला उससे मिलने बाहर निकले।


www.gajabdunia.com
                                                                          www.gajabdunia.com

“ मुल्ला क्या तुम आज के लिए अपना गधा मुझे दे सकते हो , मुझे कुछ सामान दूसरे शहर पहुंचाना है ? ”

मुल्ला उसे अपना गधा नहीं देना चाहते थे , पर साफ़ -साफ़ मना  करने से पड़ोसी को ठेस पहुँचती इसलिए उन्होंने झूठ कह दिया , “ मुझे माफ़ करना मैंने तो आज सुबह ही अपना गधा किसी और को दे दिया है। ”

मुल्ला ने अभी अपनी बात पूरी भी नहीं की थी कि अन्दर से ढेंचू-ढेंचू की आवाज़ आने लगी।

www.gajabdunia.com
                                                                  www.gajabdunia.com

“ लेकिन मुल्ला , गधा तो अन्दर बंधा चिल्ला रहा है। ”, पड़ोसी ने चौकते हुए कहा ।

“ तुम किस पर यकीन करते हो। ”, मुल्ला बिना घबराए बोले , “ गधे पर या अपने मुल्ला पर ?”

पडोसी चुप – चाप वापस चला गया ।