औरत अपने पति को सैक्स के लिए मना नहीं कर सकती चाहे वो ऊंट पर भी बैठी हो ! Malaysian fatwa

0
323

भले ही जमाना मॉडर्न हो गया है लेकिन आज भी पुरुष और महिला को लेकर फर्क किया जाता है। उसे इस धरती पर बोझ समझा जाता है। ऐसी सोच सिर्फ हमारी ही नहीं बल्कि विदेशों में भी देखने को मिलती है।

ऐसा ही मामला मलेशिया में भी सामने आया, जहां एक मौलवी ने हाल ही में फतवा जारी किया है, जिसे मुस्लिम लोगों को मानना ही होगा। उनके अनुसार, औरत अगर ऊंट पर भी बैठी है तो वह तब भी अपने पति को सैक्स के लिए मना नहीं कर सकती।

उनकी बात से यह स्पष्ट होते हैं कि कोई भी महिला किसी भी हालात में क्यों न हो लेकिन वह अपनी पति को संभोग करने से नहीं रोक सकती है। वह बस कुछ खास वजहों से ही उसे इंकार कर सकती है जैसे मासिक धर्म, बीमारी या डिलीवरी के दौरान।

मौलवी पिराक मुफ्ती के अनुसार, पैगम्बर साहब ने बताया था कि पत्नी सैक्स के लिए पति को सिर्फ तभी मना कर सकती है, जब वह बीमार हो, मासिक धर्म हो रहा हो या उसने हाल ही में बच्चे को जन्म दिया हो। महिलाओं को सैक्स से मना करने का अधिकार उसी पल खत्म हो जाता है जब लड़की के पिता उसे पति को सौंप देते हैं।

उनका कहना है कि शादी के बाद ऐसा करना दुष्कर्म नहीं कहलाता। यह यूरोपीय लोगों द्वारा बनाया गया है, इसका पालन क्यों किया जाए।हालांकि इस ब्यान की अब निंदा की जा रही है। क्या इसे मॉडर्न और विकसित देश कहा जाता है। महिलाओं को अधिकार के नाम पर शोषण का शिकार बनाया जा रहा है।

source: alarabiya