श्रावण मास में शिव कृपा चाहे तो जल जरूर बचाएं

0
38

विष की ऊष्णता को शांत करके शिव को शीतलता प्रदान करने के लिए समस्त देवी-देवताओं ने उन्हें जल अर्पित किया। इसलिए शिव पूजा में जल का विशेष महत्व है। जल मंत्र –

संजीवनं समस्तस्य जगतः सलिलात्मकम्‌।भव इत्युच्यते रूपं भवस्य परमात्मनः ॥


– अर्थात्‌ जो जल समस्त जगत के प्राणियों में जीवन का संचार करता है वह जल स्वयं उस परमात्मा शिव का रूप है। इसीलिए जल का महत्व समझकर उसकी पूजा करना चाहिए, न कि उसका अपव्यय।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here