Lord Mahavir के अनमोल वचन Lord Mahavir Quotes in Hindi

Quote 1: The greatest mistake of a soul is non-recognition of its real self and can only be corrected by recognizing itself.
किसी आत्मा की सबसे बड़ी गलती अपने असल रूप को ना पहचानना है , और यह केवल आत्म ज्ञान प्राप्त कर के ठीक की जा सकती है .

Lord-Mahavira
Lord-Mahavira

Quote 2: Silence and Self-control is non-violence.

शांति और आत्म-नियंत्रण अहिंसा है .

Quote 3: Every soul is independent. None depends on another.

प्रत्येक जीव स्वतंत्र है . कोई किसी और पर निर्भर नहीं करता .

यह भी पढिये – ओम पर्वत, जहां प्रकृति स्वयं जाप करती हैं “ऊँ” का.

Quote 4: There is no separate existence of God. Everybody can attain God-hood by making supreme efforts in the right direction.

भगवान् का अलग से कोई अस्तित्व नहीं है . हर कोई सही दिशा में सर्वोच्च प्रयास कर के देवत्त्व प्राप्त कर सकता है .

Quote 5: Every soul is in itself absolutely omniscient and blissful. The bliss does not come from outside.

प्रत्येक आत्मा स्वयं में सर्वज्ञ और आनंदमय है . आनंद बाहर से नहीं आता .

Quote 6: Have compassion towards all living beings. Hatred leads destruction.

हर एक जीवित प्राणी के प्रति दया रखो . घृणा से विनाश होता है .

Quote 7: Respect for all living beings is non‑violence.

सभी जीवित प्राणियों के प्रति सम्मान अहिंसा है .

Quote 8: All human beings are miserable due to their own faults, and they themselves can be happy by correcting these faults.

सभी मनुष्य अपने स्वयं के दोष की वजह से दुखी होते हैं , और वे खुद अपनी गलती सुधार कर प्रसन्न हो सकते हैं .

Quote 9: Non-violence is the highest religion

अहिंसा सबसे बड़ा धर्म है .

Quote 10: A man is seated on top of a tree in the midst of a burning forest. He sees all living beings perish. But he doesn’t realize that the same fate is soon to overtake him also. That man is fool.

एक व्यक्ति जलते हुए जंगल के मध्य में एक ऊँचे वृक्ष पर बैठा है . वह सभी जीवित प्राणियों को मरते हुए देखता है . लेकिन वह यह नहीं समझता की जल्द ही उसका भी यही हस्र होने वाला है . वह आदमी मूर्ख है .

Quote 11: Fight with yourself, why fight with external foes? He, who conquers himself through himself, will obtain happiness.

स्वयं से लड़ो , बाहरी दुश्मन से क्या लड़ना ? वह जो स्वयम पर विजय कर लेगा उसे आनंद की प्राप्ति होगी .

Quote 12: There is no enemy out of your soul.The real enemies live inside yourself, they are anger, proud, greed, attachmentes and hate.

आपकी आत्मा से परे कोई भी शत्रु नहीं है . असली शत्रु आपके भीतर रहते हैं , वो शत्रु हैं क्रोध , घमंड , लालच ,आसक्ति और नफरत .

Quote 13: It is better to win over self than to win over a million enemies.

खुद पर विजय प्राप्त करना लाखों शत्रुओं पर विजय पाने से बेहतर है .

यह भी पढिये – रहस्यमयी: इस मंदिर का सातवां दरवाजा खुलते ही आ जाएगी प्रलय

Quote 14: The soul comes alone and goes alone, no one companies it and no one becomes its mate.

आत्मा अकेले आती है अकेले चली जाती है , न कोई उसका साथ देता है न कोई उसका मित्र बनता है .

Quote 15: Can you hold a red-hot iron rod in your hand merely because some one wants you to do so? Then, will it be right on your part to ask others to do the same thing just to satisfy your desires? If you cannot tolerate infliction of pain on your body or mind by others’ words and actions, what right have you to do the same to others through your words and deeds?

क्या तुम लोहे की धधकती छड़ सिर्फ इसलिए अपने हाथ में पकड़ सकते हो क्योंकि कोई तुम्हे ऐसा करना चाहता है ? तब , क्या तुम्हारे लिए ये सही होगा कि तुम सिर्फ अपनी इच्छा पूरी करने के लिए दूसरों से ऐसा करने को कहो . यदि तुम अपने शरीर या दिमाग पर दूसरों के शब्दों या कृत्यों द्वारा चोट बर्दाश्त नहीं कर सकते हो तो तुम्हे दूसरों के साथ अपनों शब्दों या कृत्यों द्वारा ऐसा करने का क्या अधिकार है ?