क्या आप जानते है की रावण की मृत्यु के बाद मंदोदरी का क्या हुआ था ,पढ़िए रामायण की अनसुनी कहानी

15219
loading...

हम सब रावण के मृत्यु तक मंदोदरी को जानते लेकिन रावण की मृत्यु के बाद जैसे वो पूरी तरह से लुप्त ही होता है। रामायण में मंदोदरी की पहचान केवल लंकापति रावण की पत्नी तक ही सीमित रही है। रावण की मृत्यु के बाद उनका अध्याय भी जैसे समाप्त कर दिया गया। प्रामाणिक ग्रंथों में मंदोदरी के बारे में बहुत कम लिखा गया है। हालांकि कई किंवदंतियां जरूर प्रचलन में रहीं। हम अलग-अलग सोर्सेस से इन्हीं किंवदंतियों को अपने रीडर्स के लिए कलेक्ट कर रहे हैं…….

क्या आप जानते है की रावण की मृत्यु के बाद मंदोदरी का क्या हुआ ,गज़ब दुनिया

रावण के वध के बाद मंदोदरी रणभूमि पर पहुंचती हैं। वहां पति-पुत्र के साथ-साथ अपनों के शव देखकर शोक में डूब जाती हैं। लेकिन श्रीराम उन्हें याद दिलाते हैं कि वे अब भी लंका की महारानी और बलशाली रावण की विधवा हैं। इसके बाद मंदोदरी लंका वापस लौट जाती हैं। अद्भुत रामायण और कुछ अन्य ग्रंथों में दी गई किंवदंतियों के अनुसार पति-पुत्र के दुख में मंदोदरी खुद को महल में कैद कर लेती हैं। वे पूरी तरह से बाहरी दुनिया से संपर्क तोड़ लेती हैं। इस दौरान विभीषण लंका का राजपाट संभालते हैं।

क्या आप जानते है की रावण की मृत्यु के बाद मंदोदरी का क्या हुआ ,गज़ब दुनिया

एक किवदंती यह भी है कि सालों बाद मंदोदरी अपने महल से बाहर निकलती हैं और विभीषण से विवाह करने के लिए तैयार हो जाती हैं। विवाह के बाद मंदोदरी भी विभीषण के साथ मिलकर लंका के साम्राज्य को आगे बढ़ाती हैं।

loading...

हिन्दू पुराणों में मधुरा को मंदोदरी माना गया है। एक कथा के अनुसार एक बार मधुरा नामक अप्सरा कैलाश पर्वत पर पहुंची और देवी पार्वती को वहां ना पाकर वह भगवान शिव को आकर्षित करने का प्रयत्न करने लगी तभी देवी पार्वती वहां पहुंचती हैं और क्रोध में आकर इस अप्सरा को श्राप देती हैं कि वह 12 साल तक मेंढक बनकर कुएं में रहेगी। भगवान शिव के कहने पर माता पार्वती ने मधुरा से कहा कि कठोर तप के बाद ही वह अपने असल स्वरूप में वापस आ सकती है। इसके लिए मधुरा लंबे समय तक कठोर तप करती है।

क्या आप जानते है की रावण की मृत्यु के बाद मंदोदरी का क्या हुआ ,गज़ब दुनिया

इसी दौरान असुरों के देवता मयासुर और उनकी अप्सरा पत्नी हेमा एक पुत्री की प्राप्ति के लिए तपस्या करते हैं। वहीं, मधुरा अपनी कठोर तपस्या से श्राप मुक्त हो जाती है। एक कुएं से मयासुर-हेमा को मधुरा की आवाज सुनाई देती है। मयासुर मधुरा को कुएं से बाहर निकालते हैं और उसे बेटी के रूप में गोद ले लेते हैं। मयासुर अपनी गोद ली पुत्री का नाम मंदोदरी रखते हैं, जिनका विवाह बाद में रावण से होता है।

Flipkart SmartBuy Grill Sandwich Maker (Black) Buy Now Rs @300/-

YOU MAY LIKE
loading...