आखिर किसने कहा की ये भारत नही इण्डिया है ? जानिए इसके पीछे की पूरी कहानी

ऋषि मुनियों के समय में भारत को आर्यावर्त कहा जाता था और भारत का प्राचीन नाम भी आर्यावर्त ही था , तो कभी आपने सोचा है की आखिर किसने कहा भारत को इंडिया ? प्राचीनकाल में कई विदेशी आक्रमणकारी आये जिन्होंने आर्यावर्त को अपने हिसाब से प्रयोग किया, कुछ इसे सिन्धु कहते थे तो कुछ कहते थे हिंदुस्तान , परन्तु आर्य शब्द का सही अर्थ है श्रेष्ट या उच्च |

कुछ समय पहले BBC द्वारा एक रिपोर्ट जारी की गयी जिसके मुताबिक भारत को इंडिया या हिंदुस्तान बनाने के पीछे दो मुख्य स्त्रोतों का नाम लिया जा सकता है ,ईरान और यूनान | ईरानी या पुराणी फारसी में सिन्धु शब्द का परिवर्तन हिन्दू में हुआ क्युकी फारसी लोग ‘स’ शब्द को ‘ह’ बोलते थे जी कारण सिन्धु से हिन्दू और ऐसे ही हिंदुस्तान का जन्म हुआ जबकि यूनानी में ‘ए’ बना इंडो या इंडोस , जब ‘A’ शब्द लैटिन भाषा में पहुंचा तो यह इण्डिया बन चूका था | लेकिन उस समय तक यह शब्द आज जितना मान्य नही था क्यु की किसी और बनाये शब्द को हम क्यों उपयोग में ले |लेकिन जब अंग्रेज भारत आये तो उन्होंने भारत को हर जगह इंडिया ही कहा और अंग्रेजो की देखा देखी और चापलुसता के चलते कई लोगो ने भी भारत को इंडिया कहना शुरू कर दिया और जब भारत आजाद हुआ तब भी अंग्रेजी में भारत का नाम इंडिया ही पड़ गया |