केरल के मैकेनिक ने बुर्ज खलीफा में खरीदे 22 फ्लैट

0
93
अमीर भारतीयों की तमाम लिस्ट और अरबपतियों के बारे में आपने सुना होगा। पर नया नाम सामने आ रहा केरल में जन्मे भारतीय मैकेनिक जॉर्ज वी नेरयमपरमपिल का। इन्होंने दुनिया की सबसे ऊंची बिल्डिंग बुर्ज खलीफा में 22 फ्लैट खरीदे हैं। वह इसमें और भी फ्लैट खरीदना चाहते हैं।

खलीज टाइम्स के अनुसार, नेरयमपरमपिल केरल में एक मैकेनिक थे और शारजहां आकर बिजनेसमैन बन गए। उन्होंने दुनिया की सबसे ऊंची इमारत बुर्ज खलीफा में 22 फ्लैट खरीदे हैं। 900 अपार्टमेंट वाली इस बिल्डिंग में 22 फ्लैट नेरयमपरमपिल के हैं और इनमें उन्होंने 5 फ्लैट रेंट पर दिए हुए हैं और बाकि के लिए उन्हें सही किराएदार की तलाश है। साल 2010 में एक अखबार में इस इमारत में किराए पर एक फ्लैट का एड देखने के बाद जॉर्ज ने उसे उसी दिन किराए पर ले लिया और उसी में रहने लगे।

दोस्त की बात चुभी और खरीद डाले 22 फ्लैट
जॉर्ज के फ्लैट खरीदने की कहानी भी काफी दिलचस्प है। एक बार 828 मीटर ऊंची इस बिल्डिंग को जॉर्ज और उनके दोस्त देखने गए। दोस्त ने ऐसे ही मजाक में कहा, देखों यह बुर्ज खलीफा है। इस बिल्डिंग में तुम घुस भी नहीं सकते। जॉर्ज को दोस्त की यह बात ऐसी बुरी लगी कि उन्होंने छह साल बाद उसी बिल्डिंग में एक नहीं 22 फ्लैट खरीद डाले।

मकैनिक से कैसे बनें बिजनेसमैन
1976 में जब जॉर्ज पहली बार शारजाह आए थे तो उन्हें लगा कि इस गर्म जलवायु वाले इलाके में एयर कंडीशनर बिजनेस का काफी स्कोप है। यहीं से उन्होंने अपने मिनी एंपायर जीईओ ग्रुप ऑफ कंपनी की नींव डाली। जॉर्ज अपने गांव में 11 साल की उम्र से ही अपने पिता के व्यवसाय में मदद करनी शुरू कर दी थी। जॉज कहते हैं कि मेरे गांव में लोग कपास का व्यापार करते थे लेकिन वो कपास के बीजों को फेंक देते थे। उस समय काफी लोगों को पता नहीं था कि कपास के बीजों से गम बनाई जा सकती है। उन्होंने उन्हीं फेंके हुए बीजों को साफ कर गम बनाना शुरू किया।

अगला सपना, केरल में नहर बनाने की
11 साल की उम्र से जॉर्ज कबाड़ से जुगाड़ के एक्सपर्ट रहे हैं। जॉर्ज से जब पूछा गया कि आपकी आगे की क्या योजना है तो उन्होंने कहा, मेरी अगली बड़ी योजना त्रिवेंद्रम से कसाराकोड को जोड़ने वाली नहर तैयार करना है। मैं दूसरे लोगों को भी इस योजना को पूरा करने में आगे बढ़ने के लिए आह्वान करता हूं। इस नहर से मैं प्रकृति से जुड़ना चाहता हूं। जंगल व आसपास से जो पानी आएगा वो इस नहर में गिरेगा, हम यहां से बिजली पैदा करेंगे। इसके पानी का इस्तेमाल सिंचाई और मछली पकड़ने के लिए भी किया जाएगा।