जानिए बेटे का अकेलापन दूर करने के लिए मां ने क्यों किया एक कॉलगर्ल का इंतज़ाम

मां की ममता के हजारों किस्‍से सामने आते हैं। मां न केवल अपने बच्‍चों की परवरिश करती है बल्‍कि उनकी जरूरतों को भी समझती है। कई बार ऐसा भी हुआ है कि मां अपने बच्‍चे के लिए नियम-कानून को भी ताक पर रख दिया है। ऐसा ही एक मामला इंग्‍लैंड में सामने आया है।

यहां की रहने वाली कैथी लैट्टे नामक महिला ने अपने बेटी जूलीयस की लव लाइफ को पूरा करने के लिए कॉलगर्ल का इंतजाम किया। इस बात का खुलासा खुद कैथी ने किया है।

कैथी का कहना है कि उन्‍होंने ऐसा इसलिए किया क्‍योंकि वो चाहती थीं कि उनका बेटा सेक्‍स के बारे में कुछ सीख सके। उन्‍होंने बताया कि उनका बेटा जब स्‍कूल में था तो उसी की उम्र की एक लड़की उसे नामर्द बुलाती थी।

बेटे की बात दिल पर लग गई
डेली मेल से बातचीत में कैथी ने बताया कि एक रात जूलीयस उनके पास आया और पूछा कि “क्या मेरी कभी कोई गर्लफ्रेंड नहीं बन पाएगी? कोई मुझे अहमियत नहीं देता। हर बार का रिजेक्शन मुझे तोड़ रहा है। मैं क्या करूं मां? ” इस सवाल पर कैथी अंदर तक हिल गईं।

शुरु कर दी कॉलगर्ल की तलाश
अपने बेटे को डिप्रेशन के कुएं में गर्क होते देखना कैथी को मंज़ूर नहीं था। यही वो लम्हा था, जब कैथी ने एक बोल्ड स्टेप लेने का फैसला लिया। उसने बेटे की रोमांस की चाहत को खत्म करने के लिए कॉलगर्ल तलाशना शुरु किया। काफी तलाश के बाद कैथी को एक कॉलगर्ल मिली जो उसके बेटे को हर वो चीज सिखाने को तैयार थी जो किसी भी लड़के को सीखना चाहिए।

ऑटिज्म से पीड़ित है जूलीयस
जूलियस बचपन से ऑटिज्म से पीड़ित है। चार साल का होने तक उसने बोलना भी नहीं सीखा था। स्कूल में उसे खूब तंग किया जाता। साथी बच्चे उसका मज़ाक उड़ाते। जब वो नौ साल का था, तो एक दिन उसकी घर-वापसी के बाद, कैथी ने उसकी पीठ पर एक कागज चिपका पाया। उसपर लिखा था, “मुझे लात मारो, मैं मंदबुद्धि हूं”। जूलियस को मंदबुद्धि का मतलब भी नहीं पता था।

पढ़ाई में काफी तेज था जूलीयस
जूलियस बड़ा होता गया। पढ़ाई में तेज था। लेकिन उसका दोस्‍त कोई नहीं था। समय के साथ-साथ जू‍लीयस अकेला होता गया। उसकी लड़कियों को आकर्षित करने वाली तमाम कोशिशें फेल हो गई।
source:dailymail 

Add a Comment