व्रत के दौरान सेक्स करना सही है या गलत ,जानिये इसके पीछे की वजह

अधिकतर लोग कहते है की मंदिर और मज्जिद जैसी पवित्र जगहों पर सेक्स के बारे में बात नही करनी चाहिए और ना ही किसी पूजा पाठ के समय ऐसी चीजो के बारे में सोचना चाहिए तो आईये जानते है इसके बारे में ……

1.हिंदु धर्म~
हिंदू धर्म में ऐसा माना जाता है कि व्रत के समय सेक्स नहीं करना चाहिए। सेक्स से जुड़े कोई ख्याल भी मन में नहीं आने चाहिए। जबकि हिंदू धर्म में ऐसा कोई कड़ा नियम नहीं है। हिंदू धर्म में वैज्ञानिक तौर पर इस बात की पुष्टि की गई है। दरअसल व्रत के दौरान शरीर में बिल्कुल भी ताकत नहीं रहती। जबकि सेक्स करने के लिए काफी ताकत की जरूरत होती है इसी कारण से हिंदू धर्म में व्रत के दौरान सेक्स करने को मना किया है।

2.मुस्लिम धर्म~
मुस्लिम धर्म में सेक्स को पवित्र माना जाता है। इसलिए रोजा रखने के दौरान सेक्स की केवल रात को ही अनुमति है। दिन के दौरान जब रोजा रखा जाता है तो शारीरिक संबंध बनाने मना किया गया है।

3.बुद्धिज्म~
बौद्ध धर्म में व्रत के दौरान सेक्स करने पर पाबंदी है, लेकिन इसमें पवित्रता और थकावट के कारण ही मनाही नहीं है। इसमें मोह से छुटकारा पाने के लिए सेक्स करने पर पाबंदी लगाई गई है। वैसे भी बौद्ध धर्म का उद्देश्य ही है मोह को त्यागो।

4.यहूदी धर्म~
यहूदी धर्म में व्रत के दौरान सेक्स करने की सख्त मनाही है। इस धर्म के अनुसार व्रत खुद से जुड़ने और मेडिटेट करने का समय होता है। व्रत का यही लक्ष्य होता है कि इंसान अपनी इंद्रियों पर कंट्रोल रखे।

5.ईसाई धर्म~
ईसाई धर्म में सेक्स करना कभी गलत नहीं माना जाता है। इस धर्म के अनुसार ये बहुत ही पवित्र काम है और दो लोगों को आपस में जोड़ने का काम करता है।