हनुमान चालीसा की 5 चमत्कारी चौपाइयां जो करेगी आप की हर मनोकामना पूर्ण..जानिए इन चमत्कारीक चौपाइयो का रहस्य !

10781
Loading...

धार्मिक उपदेशों, ग्रंथों में वह ताकत है जो हमारे दुखों का निवारण करती है, इस बात में कोई संदेह नहीं है। जब भी हम परेशान होते हैं तो अपनी समस्या का हल पाने के लिए शास्त्रीय उपायों का इस्तेमाल जरूर करते हैं। इसे आप चमत्कार ही कह लीजिए, लेकिन शास्त्रों में हमारी हर समस्या का समाधान है।

भगवान हनुमान को समर्पित हनुमान चालीसा के बारे में कौन नहीं जानता, गोस्वामी तुलसीदास द्वारा रची गई हनुमान चालीसा में वह चमत्कारी शक्ति है जो हमारे दुखों को हर लेती है। हनुमान चालीसा का पाठ करने से मन और शरीर में एक अदभुत उर्जा एवं शक्ति का संचार होता है, साथ ही जीवन में प्रेरणा मिलती है। इसमें 40 छंद होते हैं जिसके कारण इसको चालीसा कहा जाता है।  हिंदू धर्म में हनुमान चालीसा का महत्व बहुत अधिक है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इस चमत्कार का रहस्य क्या है?

हनुमान चालीसा की 5 चमत्कारी चौपाइयां

पहली चौपाइ – हनुमान चालीसा

भूत-पिशाच निकट नहीं आवे। महावीर जब नाम सुनावे।।

Loading...

लाभ – इस चौपाइ का निरंतर जाप उस व्यक्ति को करना चाहिए जिसे किसी का भय सताता हो। इस चौपाइ का नित्य रोज प्रातः और सायंकाल में 108 बार जाप किया जाए तो सभी प्रकार के भय से मुक्ति मिलती है।

दूसरी चौपाइ – हनुमान चालीसा

नासै रोग हरै सब पीरा। जपत निरंतर हनुमत बीरा।।

लाभ – यदि कोई व्यक्ति बीमारियों से घिरा रहता है, अनेक इलाज कराने के बाद भी वह सुख नही पा रहा, तो उसे इस चौपाइ का जाप करना चाहिए। इस चौपाइ का जाप निरंतर सुबह-शाम 108 बार करना चाहिए। इसके अलावा मंगलवार को हनुमान जी की मूर्ति के सामने बैठकर पूरी हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए, इससे जल्द ही व्यक्ति रोगमुक्त हो जाता है।

तीसरी चौपाइ – हनुमान चालीसा

अष्ट-सिद्धि नवनिधि के दाता। अस बर दीन जानकी माता।।

लाभ – यह चौपाइ व्यक्ति को समस्याओं से लड़ने की शक्ति प्रदान करती है। यदि किसी को भी जीवन में शक्तियों की प्राप्ति करनी हो, ताकि वह कठिन समय में खुद को कमजोर ना पाए तो नित्य रोज, ब्रह्म मुहूर्त में आधा घंटा इन पंक्तियों का जप करे, लाभ प्राप्त हो जाएगा।

चौथी चौपाइ – हनुमान चालीसा

विद्यावान गुनी अति चातुर। रामकाज करिबे को आतुर।।

लाभ – यदि किसी व्यक्ति को विद्या और धन चाहिए तो इन पंक्तियों के जप से हनुमान जी का आशीर्वाद प्राप्त हो जाता है। प्रतिदिन 108 बार ध्यानपूर्वक जप करने से व्यक्ति के धन सम्बंधित दुःख दूर हो जाते हैं।

पांचवीं चौपाइ – हनुमान चालीसा

भीम रूप धरि असुर संहारे। रामचंद्रजी के काज संवारे।।

लाभ – जीवन में ऐसा कई बार होता है कि तमाम कोशिशों के बावजूद कार्य में विघ्न प्रकट होते हैं। यदि आपके साथ भी कुछ ऐसा हो रहा है तो उपरोक्त दी गई चौपाइ का कम से कम 108 बार जप करें, लाभ होगा।

हनुमान चालीसा को डर, भय, संकट या विपत्ति आने पर पढ़ने से सारे कष्ट दूर हो जाते हैं।

अगर किसी व्यक्ति पर शनि का संकट छाया है तो उस व्यक्ति को हनुमान चालीसा पढ़ना चाहिए। इससे उसके जीवन में शांति आती है।

अगर किसी व्यक्ति को बुरी शक्तियां परेशान करती हैं तो उसे चालीसा पढ़ने से मुक्ति मिल जाती है।

हनुमान चालीसा के पाठ से दैवीय शक्ति मिलती है।

हनुमान जी बुद्धि और बल के दाता हैं, उनका पाठ करने से बुद्धि और बल की प्राप्ति होती हैं।

हनुमान चालीसा का पाठ करने से नकरात्मक भावनाएं दूर हो जाती है और मन में सकारात्मकता आती है।

YOU MAY LIKE
Loading...