मोहब्बत की ये निशानी ताजमहल से कम नहीं..7000 पेड़ों का जंगल

0
1077

अपनी बेगम मुमताज़ महल की याद में ताजमहल बनवाकर शाहजहां ने इस दुनिया को मोहब्बत की एक अनोखी मिसाल दी थी. लेकिन इस युग में भी एक इंसान ने अपनी मोहब्बत के लिए जो बनाया, वो किसी ताजमहल से कम नहीं है.
अर्जेंटीना में जब भी कोई पायलट उड़ान भरता है और पंपा इलाके के ऊपर से गुजरता है, तो नीचे समतल मैदानों में एक गिटार दिखाई देता है. असल में ये सैइप्रेस और इयूकलिप्टस के 7000 पेड़ों का जंगल है, जिसे गिटार के आकार में बनाया गया है.

12 किलोमीटर तक फैले इस जंगल में 7000 पेड़ हैं

इस गिटार के पीछे भी एक प्रेम कहानी है. ये हरे रंग का गिटार एक किसान पेड्रो मार्टिन यूरेटा ने बनाया है, जिनकी उम्र इस समय करीब 70 साल है. 1977 में पेड्रो को अपने जीवनसाथी से अलग होना पड़ा. उनकी 25 वर्षीय पत्नी ग्रेसिएला 5वीं बार गर्भवती हुईं थीं, उस दौरान मस्तिष्क की नस फट जाने के कारण उनकी मौत हो गई थी. अपनी पत्नी को श्रृद्धांजलि देने के लिए यूरेटा ने अपने खेत में ये डिजाइन बनाया था, और तब से अब तक वो उसे सींचते आ रहे हैं.

25 साल की उम्र में पत्नी ग्रेसिएला की मौत हो गई थी.

28 साल के पेड्रो ने 17 साल की ग्रेसिएला से शादी की थी. उनके चार बच्चे थे. एक बार जब ग्रेसिएला हवाई यात्रा कर रही थीं, उनकी निगाह एक ऐसे फार्म पर पड़ी जिसका आकार ऊपर से एक दूध क बल्टी जैसा दिखाई दे रहा था. तब ग्रेसिएला ने अपने पति से एक गिटार के आकार का फार्म बनाने की इच्छा रखी थी. क्योंकि गिटार उन्हें बहुत पसंद था. लेकिन अपने कामों में व्यस्त पेड्रो ने कभी उनपर ध्यान नहीं दिया. ग्रेसिएला जब उनका साथ छोड़कर चली गईं, तब उन्होंने उनकी इच्छा पूरी करने का फैसला किया.

कुछ सालों पहले जब पेड़ ठीक से बड़े नहीं हुए थे, तो कुछ ऐसा दिखाई देता था ये जंगल

1979 में पेड्रो ने बिना किसी डिजाइनर की मदद से इस प्रोजेक्ट पर काम करना शुरू किया. पेड्रो और उनके चारों बच्चों ने इस मौदान में एक-एक पौधा अपने हाथों से लगाया. ये गिटार के आकार का जंगल 10.2 x12.3 वर्ग किलोमीटर में फैला है. पेड़ों को तब ये ध्यान में रखकर लगाया गया कि बड़े होने पर गिटार का आकार साफ और उभरता हुआ दिखाई दे. पेड्रो ने चारों बच्चों की देखभाल के साथ साथ इस जंगल का भी ख्याल रखा और आज जब वो पौधे, पेड़ बन चुके हैं, तो ये गिटार का जंगल आसमान से साफ दिखाई देता है.

सैइप्रेस और इयूकलिप्टस के पेड़ों को बहुत सोच समझकर लगाया गया

पेड्रो को आज भी अफसोस होता है कि वो अपनी पत्नी के जीते जी इस गिटार को नहीं बनवा पाए. लेकिन उन्हें यकीन है कि ये इतना बड़ा है कि उनकी पत्नी स्वर्ग से भी अपने गिटार को देख रही होंगी.

आसमान की नजर से देखो तो जमीन पर रखे गिटार जैसा दृश्य दिखाई देता है

पेड्रो ने अपनी पत्नी के लिए ये गिटार तो बना दिया लेकिन वो आज तक अपनी इस कृति को देख नहीं पाए. क्योंकि इसे केवल आसमान से देखा जा सकता है, और पेड्रो को आसमान में उड़ने से डर लगता है. पेड्रो भले तस्वीरों में ये गिटार देख पाते हों, लेकिन आसमान से जिस किसी ने भी प्यार की इस निशानी को देखा है, उसका प्रेम पर भरोसा और भी मजबूत हुआ है.

Widow’s tribute to his beautiful wife: Stunning forest planted in shape of a GUITAR that he has never seen because he fears flying
Source : dailymail

YOU MAY LIKE
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here