फ़िराक़ गोरखपुरी की प्रसिद्ध शायरियों का विशाल संग्रह (Firaq Gorakhpuri Best Shayari Collection)

0
685

Firaq Gorakhpuri (फ़िराक़ गोरखपुरी) (1896 – 1982 ), Firaq Gorakhpuri / Best Shayari


आए थे हँसते खेलते मय-ख़ाने में ‘फ़िराक़’जब पी चुके शराब तो संजीदा हो गए

Aaye the hanste khelte may-khaane mein ‘Firaq’
Jab pee chuke sharaab to sanzida ho gaye

 

अब आ गए हैं आप तो आता नहीं है यादवर्ना कुछ हम को आप से कहना ज़रूर था

Ab aa gaye hain aap to aata nahin hain yaad
Warna kuchh ham ko aap se kehana jaroor tha

 

अब तो उन की याद भी आती नहींकितनी तन्हा हो गईं तन्हाइयाँ

Ab to unki yaad bhi aati nahin
Kitani tanha ho gai tanhaaiyan

 

बहुत पहले से उन क़दमों की आहट जान लेते हैंतुझे ऐ ज़िंदगी हम दूर से पहचान लेते हैं

Bahut pehale se un kadamon ki aahat jaan lete hain
Tujhe ae zindagi ham dur se pahchaan lete hain

ग़रज़ कि काट दिए ज़िंदगी के दिन ऐ दोस्तवो तेरी याद में हों या तुझे भुलाने में

Garaz ki kaat diye zindagi ke din ae dost
Wo teri yaad mein ho ya tujhe bhulaane mein

 

हम से क्या हो सका मोहब्बत मेंख़ैर तुम ने तो बेवफ़ाई की

Ham se kya ho saka mohabbat mein
Khair tum ne to bewafaai ki

 

हज़ार बार ज़माना इधर से गुज़रा हैनई नई सी है कुछ तेरी रहगुज़र फिर भी

Hazaar baar zamaana idhar se gujara hai
Nai nai si hai kuchh teri rahgujar phir bhi

 

इनायत की करम की लुत्फ़ की आख़िर कोई हद हैकोई करता रहेगा चारा-ए-ज़ख़्म-ए-जिगर कब तक

Inayat ki karam ki lutf ki aakhir koi had hai
Koi karta rahega chara-e-zakhm-e-jigar kab tak

 

जिस में हो याद भी तेरी शामिलहाए उस बे-ख़ुदी को क्या कहिए

Jis mein ho yaad bhi teri shaamil
Haye us be-khudi ko kya kahiye

 

जो उलझी थी कभी आदम के हाथोंवो गुत्थी आज तक सुलझा रहा हूँ

Jo uljhai thi kabhi aadam ke haatho
Wo guthi aaj tak suljha raha hun


प्रसिद्ध शायरों की शायरियों का विशाल संग्रह
New, Best, Latest, Two Line, Hindi, Urdu, Shayari, Sher, Ashaar, Collection, Shyari, नई, नवीनतम, लेटेस्ट, हिंदी, उर्दू, शायरी, शेर, अशआर, संग्रह