चीन की विशाल दिवार के बारे में जानकर ,चौंक जायेंगे आप ….

विश्व के 7 आश्चर्यों में गिनी जाने वाली चीन की विशाल दीवार मिट्टी और पत्थर से बनी एक किलेनुमा दीवार है जिसे चीन के शासको के द्वारा उत्तरी हमलावरों से रक्षा के लिए पाँचवीं शताब्दी ईसा पूर्व से लेकर सोलहवी शताब्दी तक बनवाया था । इसकी विक्रालता का अंदाजा इसी तथ्य से लगाया जा सकता है की इस मानव निर्मित दिवार को अन्तरिक्ष से भी देखा जा सकता है। इस विशालकाय दीवार निर्माण परियोजना में करीब 20 से 30 लाख लोगों ने अपना जीवन लगा दिया था ,आज हम आपको इससे जुड़े रोचक और आश्चर्यजनक तथ्यों के बारे में बताने जा रहे हैं…..

गज़ब दुनिया

1.इस दीवार के कुछ हिस्से आपस में जुड़े हुए नहीं है,अगर इसके सारे हिस्सों को जोड़ दिया जाए, तो इसकी कुल लम्बाई 8848 किलोमीटर हो जाएगी।

2. एक समय इस दीवार कई नाम थे, जिनमें परपल फ्रॉंट्रियर,रमपंत, अर्थ ड्रैगन शामिल थे। हालांकि, 19वीं शताब्दी में इसका ऑफिशियल नाम ‘ग्रेट वॉल ऑफ चाइना’ पड़ा।

3. दीवार को बनाते वक़्त इसके पत्थरों को जोड़ने में चावल के आटे का इस्तेमाल किया गया।

4. इस दीवार को बनाने में करीब 20 से 30 लाख लोगों ने अपना पूरा जीवन लगा दिया था।

5. दीवार इतनी ज्यादा चौड़ी है कि उस पर एक साथ 5 घोड़े या 10 लोग पैदल चल सकते हैं।

गज़ब दुनिया

6. वैसे तो इसे दुश्मनों से बचाव के लिए बनाया गया था लेकिन सदियों तक इसका इस्तेमाल व्यापार के लिए किया जाता रहा।

7. दीवार के निर्माण में जो लोग लापरवाही बरतते थे, उन्हें इसकी दीवार की नींव में दफना दिया जाता था, इसलिए इसे दुनिया का सबसे लंबा कब्रिस्तान भी कहते हैं।

8. इस दीवार को तोड़कर कई लोगों ने चीन पर हमला भी किया था, जैसे चंगेज खान ने 1211 में |

9. दुश्मनों पर नजर रखने के लिए इसमें कई निरिक्षण हेतु मीनारें भी बनाई गई हैं।

10. इस मशहूर दीवार का निर्माण राजा किन शिहुआंग ने शुरू करवाया था। चीन का ये विशाल दीवार 7वीं शताब्दी यानी कि 2800 साल पहले बनना शुरू हुआ था और इसे पूरा होने में करीब दो हजार साल लग गए थे।

11. यह दिवार 6,400 किलोमीटर में फैली हुयी है |

गज़ब दुनिया

12. चीनी भाषा में इस दीवार को ‘वान ली छांग छंग’ भी कहते है।

13. भारत में स्तिथ कुम्भलगढ़ की दीवार विश्व की दूसरी सबसे लम्बी दीवार है, हालांकि ये चीन की दीवार से कई सौ गुना छोटी है।

14. यह एक मात्र मानव निर्मित आकृति है जिसे अन्तरिक्ष से से देखा जा सकता है।

15. हर साल लगभग एक करोड़ पर्यटक इसको देखने आते हैं।

YOU MAY LIKE