15 अगस्त 1947 को आजादी के जश्न में शामिल नही हुए थे गाँधी जी , जानिए 15 अगस्त से जुड़ी बेहद रोचक खबरे ……

15 अगस्त का दिन हम सभी के लिए बहुत ही गौरव और सम्मान का दिन है क्युकी इस दिन भारत को स्वतंत्रता प्राप्त हुयी थी |15 अगस्त 1947 जब हमारा देश आजाद हुआ था पुरे देश में जश्न का माहौल था मगर महात्मा गाँधी स्वतंत्रता दिवस के किसी भी जश्न में उपस्थित नही थे क्युकी उस समय भारत से पाकिस्तान अलग हुआ था जिसमे कितनी ही जन हानि हुयी थी इस कारण उन्होंने किसी भी जश्न में शामिल नही होने का निर्णय लिया | इसी प्रकार की 15 अगस्त से जुड़ी कुछ रोचक बाते हम आपके लिए लेकर आये है ……

गज़ब दुनिया

1. महात्मा गांधी आज़ादी के दिन भी दिल्ली से हज़ारों किलोमीटर दूर बंगाल के नोआखली में थे, जहां वे हिंदुओं-मुसलमानों के बीच चल रहे सांप्रदायिक दंगो को रोकने के लिए अनशन पर थे।

2. जवाहर लाल नेहरू ने ऐतिहासिक भाषण ‘ट्रिस्ट विद डेस्टनी’ 14 अगस्त की मध्यरात्रि को वायसराय लॉज यानि की आज का राष्ट्रपति भवन से दिया था। तब नेहरू प्रधानमंत्री नहीं बने थे। इस भाषण को पूरी दुनिया ने सुना, लेकिन गांधी जी उस दिन नौ बजे सोने चले गए थे।

गज़ब दुनिया

3. जब यह पूरी तरह से तय हो गया कि भारत 15 अगस्त को भारत पूर्ण रूप से आज़ाद होगा तो जवाहर लाल नेहरू और सरदार वल्लभ भाई पटेल ने गांधी जी को एक ख़त लिखा । इस ख़त में लिखा की , “15 अगस्त हमारा पहला स्वाधीनता दिवस होगा। आप राष्ट्रपिता हैं , इसमें शामिल होकर अपना आशीर्वाद प्रदान करे ।”

4.गांधी जी ने इस ख़त का जवाब दिया की , “जब कलकत्ते में हिंदु-मुस्लिम एक दूसरे की जान ले रहे हैं, ऐसी विकट परिस्थिति में मैं जश्न मनाने के लिए कैसे आ सकता हूं। मैं दंगा रोकने के लिए अपनी जान भी दे दूंगा।”

5.लॉर्ड माउंटबेटन ने 15 अगस्त, 1947 को अपने दफ़्तर में काम किया। दोपहर में नेहरू ने उन्हें अपने मंत्रिमंडल की सूची सौंपी और बाद में इंडिया गेट के पास प्रिसेंज गार्डेन में एक सभा को संबोधित किया।

गजब दुनिया

6. हर स्वतंत्रता दिवस पर भारतीय प्रधानमंत्री लाल किले से झंडा फहराते हैं। लेकिन 15 अगस्त, 1947 को ऐसा नहीं हुआ था। लोकसभा सचिवालय के एक शोध पत्र के अनुसार नेहरू ने 16 अगस्त, 1947 को लाल किले से झंडा फहराया था।

7. भारत के तत्कालीन वायसराय लॉर्ड माउंटबेटन के प्रेस सचिव कैंपबेल जॉनसन के अनुसार मित्र देश की सेना के सामने जापान के समर्पण की दूसरी वर्षगांठ 15 अगस्त को पड़ रही थी, इस कारण 15 अगस्त के दिन भारत को आज़ाद करने का फ़ैसला हुआ।

8. 15 अगस्त तक भारत और पाकिस्तान के बीच सीमा रेखा का निर्धारण नहीं हुआ था। इसका फ़ैसला 17 अगस्त को रेडक्लिफ लाइन की घोषणा के बाद हुआ।

गजब दुनिया

9. भारत 15 अगस्त को आज़ाद जरूर हो गया, लेकिन उसका अपना कोई राष्ट्र गान नहीं था। रवींद्रनाथ टैगोर जन-गण-मन 1911 में ही लिख चुके थे, लेकिन यह राष्ट्रगान 1950 में जाकर बनाया गया।

10. 15 अगस्त भारत के अलावा तीन अन्य देशों का भी स्वतंत्रता दिवस है। दक्षिण कोरिया जापान से 15 अगस्त, 1945 को आज़ाद हुआ | ब्रिटेन से बहरीन 15 अगस्त, 1971 को और फ्रांस से कांगो 15 अगस्त, 1960 को आज़ाद हुआ।

YOU MAY LIKE