15 सेकंड की रफ़्तार से फैलता है कोरोना वायरस, जानिए बचाव के उपाय और लक्षण

कोरोना वायरस को लेकर पूरे देश में हाहाकार मचा हुआ है। सभी सरकारें आम लोगों से सोशल डिस्टेंस मेंटेंन करने को कह रही है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की जानकारी देश के विभिन्न हिस्सों में कोरोना वायरस संक्रमण के 50 नये मामले सामने आने के बाद शुक्रवार शाम को कुल मामलों की संख्या 250 पहुंच गई है। शनिवार सुबह तक यह संख्या बढ़कर 256 हो गई है। चीन के वुहान शहर से दुनियाभर में फैलने वाला कोरोना वायरस व्यक्ति के शरीर पर महज 15 सेकेंड में फैल रहा है। इसकी जानकारी चीन के स्वास्थ्य अधिकारियों ने दी है।

corona virus

बताया जा रहा है कि किसी भी व्यक्ति के शरीर में ये वायरस मात्र 15 सेकेंड के भीतर फैल जाता है। स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि एक व्यक्ति बाजार में कोरोना वायरस से पीड़ित एक महिला के बगल में खड़ा हुआ। मात्र 15 सेकेंड में इस वायरस ने उस व्यक्ति को अपनी चपेट में ले लिया।

गौरतलब है कि कोरोना वायरस के इलाज करने के लिए अब तक कोई खास दवा उपलब्ध नहीं हो पाई है। इसपर WHO ने कहा है कि इलाज के लिए कुछ विशेष उपायों का अध्ययन किया जा रहा है और इसके निदान के लिए इसका परीक्षण किया जाएगा. हालांकि कोरोना वायरस से बचाव के लिए कई संस्थान मिलकर काम कर रहे हैं। WHO के मुताबिक सभी उम्र के लोग इस वायरस की चपेट में आ सकते हैं. वहीं अस्थमा, दिल के रोगी या मधुमेह जैसी बीमारियों से ग्रसित लोगों में कोरोना वायरस के संक्रमन होने का खतरा ज्यादा है।

क्या है कोरोना वायरस?

कोरोना वायरस का संबंध वायरस के ऐसे परिवार से है, जिसके संक्रमण से जुकाम से लेकर सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्या हो सकती है। इस वायरस को पहले कभी नहीं देखा गया है। इस वायरस का संक्रमण दिसंबर में चीन के वुहान में शुरू हुआ था। डब्लूएचओ के मुताबिक, बुखार, खांसी, सांस लेने में तकलीफ इसके लक्षण हैं।

-बता दें की यह वायरस, खांसी, छींक, श्वास और छूने से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है।

-जानकारी के अनुसार इस वायरस का आकार 400-500 माइक्रोन का है जो अन्य वायरस से बड़ा है। यह वायरस धातु की सतह पर 12 घंटे, कपड़ों पर 9 घंटे, और हमारे हाथों तथा शरीर पर 10 मिनट तक जीवित रहता है।

-इस वायरस से बचाव के लिए लोगों से हाथ न मिलाएं और गले भी न मिलें। 5 फीट की दूरी से बात करें।

-गंदे हाथों से अपनी नाक और मुंह को न छुएं और न ही गंदे हाथों से कुछ खाएं।