कल राखी के दिन होगा चूड़ामणि चंद्रग्रहण, इन राशियों के लोगों के खुलेंगे किस्मत के ताले…

कल रक्षाबंधन है और इस दिन यानि श्रावण शुक्ल पूर्णिमा सोमवार 7 व 8 अगस्त 2017 कि मध्य रात्रि को समस्त भारत में खंडग्रास चंद्रग्रहण दक्षिणी और पूर्वी एशिया के अधिकतर देशों यूरोप,अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया (पाकिस्तान, अफ़ग़ानिस्तान, ईरान, इराक, सऊदी अरब, इथोपिया, केन्या, तंजानिया, रूस, चीन, मंगोलिया, म्यांमार, मलेशिया, जापान, थाईलैंड, सिंगापुर, सोमालिया, फ़िलीपीन्स, हांगकांग) आदि में खंडग्रास चंद्रग्रहण देखा जा सकेगा|

इस चंद्रग्रहण से सभी राशियों के लोगो पर इसका प्रभाव पड़ेगा लेकिन कुछ विशेष राशियों के लोगों के किस्मत के ताले खुलने वाले है तो वही कुछ राशियों के लोगो पर बुरा प्रभाव पड़ेगा |

इस ग्रहण प्रारंभ रात्रि 10-53 बजे, ग्रहण मध्य रात्रि 11-51 बजे और ग्रहण मोक्ष ( समाप्त ) मध्यरात्रि के बाद 12-48 बजे होगा। ग्रहण का सूतक 07 अगस्त , 2017 को दोपहर बाद 01-53 से प्रारंभ होगा | सूतक में बाल,वृद्ध,रोगी और आसक्त जनों को छोड़कर अन्य जनों को भोजन, शयन, मूर्ति स्पर्श, मैथुन, नाख़ून काटना,तेल लगाना आदि कार्य नही करने चाहिए| रोगी,गर्भवती स्त्रियों को यथा समय भोजन व औषधादि लेने में दोष नही हैं |

क्या करें और क्यान ना करें

इस दौरान ग्रहण काल में स्नान, दान, ध्यान, जप, पाठ, मंत्र-तंत्र सिद्धि, तीर्थ स्थान में स्नान व हवनादि शुभ कर्म करना हितकर है|ग्रहण कि समाप्ति के बाद सूर्योदय के समय पुनः स्नान करके संकल्प पूर्वक पात्र ब्राह्मणजनों को दानादि करना चाहिए| गर्भवती महिलाओं को सूतक में चाक़ू-चुरी, ब्लेड से फल, हरी सब्जियां और नाख़ून आदि नही काटने चाहिए| गर्भवती स्त्रियों को अपने साडी के पल्लू को गेरू के घोल में रंग लेना चाहिए जिससे गर्भस्थ शिशु पर ग्रहण का कोई दुष्प्रभाव नही होगा।

इस बार रहेगा  

यह चंद्रग्रहण सोमवार को घटित होने से चूडामणि चंद्रग्रहण कहा जायेगा। शास्त्रों में इस ग्रहण का स्नान,जाप, दान, पूजा,हवनादि का बहुत महत्व मन गया है | तत्फलं कोटिगुनितं घेय चूड़ामणौ ग्रहे।

किन राशियों पर रहेगा ग्रहण का प्रभाव

यह खण्डग्रास चंद्रग्रहण श्रवण नक्षत्र तथा मकर राशि में होने से इस राशि व नक्षत्र में उत्पन्न जात को कुछ विशेष कष्टप्रद रहेगा। इनके अतिरिक्त जलीय जीवों, राजनेताओं, प्रतिष्ठित व्यक्तियों के परिवार जनों व चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों, मंत्रशास्त्रियों, औषध निर्माताओं,आयुध-शस्त्र, जीवियों, सैनिकों, वृद्ध जनों को नानाविध कष्टों का सामना करना पड़ता है| अतः इस राशि- नक्षत्र वाले जातकों को चन्द्र, राहू व राशि स्वामी शनि के यथाआवश्यक जप,दान आदि करना हितकर रहेगा |

अन्य राशि वाले जातकों के लिए ग्रहण का फल

मेष राशि के जातकों के लिए सुख व शुभद रहेगा।

वृषभ के मान-सम्मान में गिरावट आ सकती है।

मिथुन को शारीरिक कष्ट की है आशंका,

कर्क राशि के जातकों के लिए दाम्पत्य जीवन में कष्ट का सामना करना पड सकता है।

सिंह के लिए यह समय कार्यसिद्धि का होगा।

कन्या के जातकों के लिए थोडा चिंता और तनाव देने वाला हो सकता है।

तुला राशि वालों को रोग और भय का सामना करना पड सकता है।

वृश्चिक के लिए धनलाभ की रहेगी असीम संभावना।

 धनु के लिए हानि का सामाना करना पड सकता है।

मकर राशि वालों पर भी यह ग्रहण थोडा भारी पड सकता है। इसमें इन्हें चोट और भय का डर रहेगा।

कुंभ के लिए धनहानि हो सकती है।

मीन राशि वालों को धन और लाभवृद्धि की बढोतरी की संभावना रहेगी।

Add a Comment