Category: महाभारत की सम्पूर्ण कथाएँ

कथा महाभारत की – पाण्डवों के जन्म की कथा Mahabharata Birth Of Pandavas Story In Hindi

धृतराष्ट्र जन्म से ही अन्धे थे, अतः उनकी जगह पर पाण्डु को हस्तिनापुर का राजा बनाया गया था। इससे धृतराष्ट्र को सदा अपनी नेत्रहीनता पर क्रोध आता और उन्हें पाण्डु से द्वेषभावना होने लगती। पाण्डु ने कुछ ही समय में सम्पूर्ण...

कथा महाभारत की – कर्ण को शाप की कथा Mahabharata Curse Of Karna Story In Hindi

अपनी कुमार अवास्था से ही कर्ण की रुचि अपने पिता अधिरथ के समान रथ चलाने की बजाय युद्धकला में अधिक थी। कर्ण और उसके पिता अधिरथ आचार्य द्रोणाचार्य से मिले, जो कि उस समय युद्धकला के सर्वश्रेष्ठ आचार्यों में से एक...

कथा महाभारत की – एकलव्य की गुरुभक्ति Mahabharata Eklavya Gurabhakti Story In Hindi

आचार्य द्रोणाचार्य पाण्डव तथा कौरव राजकुमारों को अस्त्र-शस्त्र की विधिवत शिक्षा प्रदान कर रहे थे। उन राजकुमारों में अर्जुन के अत्यन्त प्रतिभावान तथा गुरुभक्त होने के कारण वे द्रोणाचार्य के प्रिय शिष्य थे। द्रोणाचार्य का अपने पुत्र अश्वत्थामा पर भी विशेष...

कथा महाभारत की – कर्ण-दुर्योधन के मित्रता की कथा Mahabharata Friendship Of Karna & Duryodhana Story In Hindi

कर्ण और दुर्योधन की मित्रता का उल्लेख महाभारत में मिलता है। कर्ण दुर्योधन के आश्रय में रहता था। गुरु द्रोणाचार्य ने अपने शिष्यों की शिक्षा पूर्ण होने पर हस्तिनापुर में एक रंगभूमि का आयोजन करवाया। रंगभूमि में अर्जुन विशेष धनुर्विद्या युक्त...

कथा महाभारत की – द्रौपदी और धृष्टद्युम्न के जन्म की कथा Mahabharata Birth of Draupadi & Dhritdyumn Story In Hindi

जब पाण्डव तथा कौरव राजकुमारों की शिक्षा पूर्ण हो गई तो उन्होंने द्रोणाचार्य को गुरु दक्षिणा देना चाहा। द्रोणाचार्य को पांचाल नरेश तथा अपने पूर्व के मित्र द्रुपद के द्वारा किये गये अपने अपमान का स्मरण हो आया और उन्होंने राजकुमारों...

कथा महाभारत की – लाक्षागृह षड्यन्त्र Mahabharata The Varnavat Conspiracy Story In Hindi

                                                    लाक्षागृह षड्यन्त्र पाण्डव हस्तिनापुर में अपनी माता कुन्ती के साथ शान्त जीवन व्यतीत कर रहे...

कथा महाभारत की – द्रौपदी स्वयंवर Mahabharata The Swayamvara Of Draupadi Story In Hindi

लाक्षागृह से जीवित बच निकलने के पश्चात पाण्डव अपनी माता कुन्ती सहित वहाँ से एकचक्रा नगरी में जाकर मुनि के वेष में एक ब्राह्मण के घर में निवास करने लगे। यहीं पर भीम ने बक नामक राक्षस का वध किया। पाण्डवों...

कथा महाभारत की – पाण्डव-द्रौपदी विवाह Mahabharata Marriage Of Pandavas & Draupadi Story In Hindi

अर्जुन द्वारा द्रौपदी को स्वयंवर में विजित कर लिये जाने के पश्चात पाँचों पाण्डव द्रौपदी को साथ लेकर वहाँ पहुँचे, जहाँ वे अपनी माता कुन्ती के साथ निवास कर रहे थे। द्वार से ही अर्जुन ने पुकार कर अपनी माता से...

कथा महाभारत की – इन्द्रप्रस्थ की स्थापना Mahabharata Establishment Of Indraprastha Story In Hindi

द्रौपदी के स्वयंवर से पहले विदुर को छोड़कर सभी पाण्डवों को मृत समझने लगे थे, इस कारण धृतराष्ट्र ने शकुनि के कहने पर दुर्योधन को युवराज बना दिया। द्रौपदी स्वयंवर के तत्पश्चात दुर्योधन आदि को पाण्डवों के जीवित होने का पता...

कथा महाभारत की – कौरवों का कपट Mahabharata Shakuni Cheated Pandavas In Gambling Story In Hindi

खाण्डव वन के दहन के समय अर्जुन ने मय दानव को अभयदान दे दिया था। इससे कृतज्ञ होकर मय दानव ने अर्जुन से कहा- “हे कुन्तीनन्दन! आपने मेरे प्राणों की रक्षा की है। अतः आप आज्ञा दें, मैं आपकी क्या सेवा...