Category: महाभारत की सम्पूर्ण कथाएँ

कथा महाभारत की – अर्जुन का अहंकार Mahabharata Arjun’s Ego Story In Hindi

एक बार अर्जुन को अहंकार हो गया कि वही भगवान के सबसे बड़े भक्त हैं। उनको श्रीकृष्ण ने समझ लिया। एक दिन वह अर्जुन को अपने साथ घुमाने ले गए। रास्ते में उनकी मुलाकात एक गरीब ब्राह्मण से हुई। उसका व्यवहार...

कथा महाभारत की – आलस्य और निद्रा किसी भी योद्धा की सबसे बड़ी कमजोरी है

एक शिष्य अपने गुरु का बहुत आदर-सम्मान किया करता था | गुरु भी अपने इस शिष्य से बहुत स्नेह करते थे, लेकिन वह शिष्य अपने अध्ययन के प्रति आलसी और स्वभाव से दीर्घसूत्री था |सदा स्वाध्याय से दूर भागने की कोशिश...

कथा महाभारत की – वीर कर्ण की नीति निष्ठां Mahabharata Veer Karn Incredible Story In Hindi

कर्ण कौरवों की सेना में होते हुए भी महान धर्मनिष्ठ योद्धा थे। भगवान श्रीकृष्ण तक उनकी प्रशंसा करते थे।  महाभारत युद्ध में कारण ने अर्जुन को मार गिराने की प्रतिज्ञा की थी। उसे सफल बनाने के लिए खांडव वन के महासर्प अश्वसेन...

कथा महाभारत की – भीष्म पितामह और शरशैया Mahabharata Incredible Story In Hindi

महाभारत में भीष्म जब बाणों की शय्या पर थे तो एक अद्भुत प्रेरक घटना हुयी : महाभारत का युद्ध अंतिम दौर में था। भीष्म पितामह शरशैया पर लेटे थे। युधिष्ठिर अपने भाइयों के साथ उनके चरणों के समीप बैठे उनका धर्मोपदेश...

अद्भुत कथा महाभारत की – परीक्षित का जीवन मोह Mahabharata Maharaj Parikshit’s Story In Hindi

राजा परीक्षित को भागवत कथा सुनाते हुए शुकदेव को छह दिन बीत गए और सर्प के काटने से मृत्यु होने का एक दिन शेष रह गया, तब भी राजा का शोक और मृत्यु का भय कम नहीं हुआ। तब शुकदेवजी ने...

कथा महाभारत की – किन परिस्थितियों में व्यक्ति को नींद नहीं आती – विदुर नीति Mahabharata Vidur Policy In Hindi

महाभारत युद्ध शुरू होने से पहले की बात हैं, जब हस्तिनापुर के दूत संजय पांडवों का सन्देश लेकर आये थे और अगले दिन सभा में उनका सन्देश सुनाने वाले थे। उसी रात महाराज धृतराष्ट्र बहुत व्याकुल थे और उन्हें नींद नहीं...

अद्भुत कथाएं महाभारत की – नैतिक मूल्यों का संरक्षण हर हालत में होना ही चाहिये Mahabharata Stories In Hindi

महाभारत कर्ण-पर्व के अध्याय 90 में एक कथा आती है-खण्डन वन में एक महा सर्प रहता था-नाम था अश्वसेन। वन में आग लगी। उस अग्नि काँड का निमित्त अर्जुन को माना गया। अग्नि काँड में अश्वसेन की माता चक्षुश्रक मर गई।...

कथा महाभारत की – दो मुद्राओं का कमाल Mahabharata story In Hindi

एक बार श्री कृष्ण और अर्जुन भ्रमण पर निकले तो उन्होंने मार्ग में एक निर्धन ब्राहमण को भिक्षा मागते देखा.. अर्जुन को उस पर दया आ गयी और उन्होंने उस ब्राहमण को स्वर्ण मुद्राओ से भरी एक पोटली दे दी। जिसे...

कथा महाभारत की – प्रेरक प्रसंग – लक्ष्य के प्रति एकनिष्ठ रहना बहुत बड़ा सद्गुण है Mahabharata Motivational Incident Story In Hindi

महाभारत का युद्ध समाप्त हुआ। कौरव तो सभी युद्ध में मारे जा चुके थे। पाण्डव भी कुछ समय तक राज्य करके हिमालय पर चले गये। वहाँ पर एक, एक करके सभी भाई गिर गये। अकेले युधिष्ठिर अपने एक मात्र साथी कुत्ते...

कथा महाभारत की – यथा दृष्टि तथा सृष्टि – जैसा दृष्टिकोण वैसा सँसार! Mahabharata story in hindi

पाण्डवों और कौरवों को शस्त्र शिक्षा देते हुए आचार्य द्रोण के मन में उनकी परीक्षा लेने की बात उभर आई। परीक्षा कैसे और किन विषयों में ली जाए इस पर विचार करते उन्हें एक बात सूझी कि क्यों न इनकी वैचारिक...