बाल गंगाधर तिलक के अनमोल विचार Bal Gangadhar Tilak Quotes

0
147

Quote 1: Swaraj is my birthright, and I shall have it!
 स्वराज मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है, और मैं इसे लेकर रहूँगा !

http://www.gajabdunia.com/bal-gangadhar-tilak-hd-wallpaper
http://www.gajabdunia.com/bal-gangadhar-tilak-hd-wallpaper

Quote 2: Progress is implied in independence. Without self-government neither industrial progress is possible, nor the educational scheme will be useful to the nation…To make efforts for India’s freedom is more important than social reforms.

प्रगति स्वतंत्रता में निहित है। बिना स्वशासन के न औद्योगिक विकास संभव है , न ही राष्ट्र के लिए शैक्षिक योजनाओं की कोई उपयोगिता है… देश की स्वतंत्रता के लिए प्रयत्न करना सामाजिक सुधारों से अधिक महत्वपूर्ण है.

Loading...

Quote 3: If God is put up with untouchability, I will not call him God

 यदि भगवान छुआछूत को मानता है तो मैं उसे भगवान नहीं कहूँगा।

Quote 4: It may be providence’s will that the cause I represent may prosper more by my suffering than by my remaining free.

हो सकता है ये भगवान की मर्जी हो कि मैं जिस वजह का प्रतिनिधित्व करता हूँ उसे मेरे आजाद रहने से ज्यादा मेरे पीड़ा में होने से अधिक लाभ मिले।

यह भी पढिये -कथा महाभारत की – अर्जुन का अहंकार Mahabharata Arjun’s Ego Story In Hindi

Quote 5: It is true that lack of rain causes famine but it is also true that the people of India have not the strength to fight the evil.

ये सच है कि बारिश की कमी के कारण अकाल पड़ता है लेकिन ये भी सच है कि भारत के लोगों में इस बुराई से लड़ने की शक्ति नहीं है।

Quote 6: The poverty of India is wholly due to the present rule.

 भारत की गरीबी पूरी तरह से वर्तमान शासन की वजह से है।

Quote 7: India is being bled till only the skeleton remains

 भारत का तब तक खून बहाया जा रहा है जब तक की बस कंकाल ना शेष रह जाये।

Quote 8: The geologist takes up the history of the earth at the point where the archaeologist leaves it, and carries it further back into remote antiquity.

भूविज्ञानी पृथ्वी का इतिहास वहां से उठाते हैं जहाँ से पुरातत्वविद् इसे छोड़ देते हैं , और उसे और भी पुरातनता में ले जाते हैं।

http://www.gajabdunia.com/bal-gangadhar-tilak-hd-wallpaper
http://www.gajabdunia.com/bal-gangadhar-tilak-hd-wallpaper

Quote 9: If we trace the history of any nation backwards into the past, we come at last to a period of myths and traditions which eventually fade away into impenetrable darkness.”

 यदि हम किसी भी देश के इतिहास को अतीत में जाएं , तो हम अंत में मिथकों और परम्पराओं के काल में पहुंच जाते हैं जो आखिरकार अभेद्य अन्धकार में खो जाता है।

Quote 10: Religion and practical life are not different. To take Sanyasa (renunciation) is not to abandon life. The real spirit is to make the country your family work together instead of working only for your own. The step beyond is to serve humanity and the next step is to serve God.”

धर्म और व्यावहारिक जीवन अलग नहीं हैं। सन्यास लेना जीवन का परित्याग करना नहीं है। असली भावना सिर्फ अपने लिए काम करने की बजाये देश को अपना परिवार बना मिलजुल कर काम करना है। इसके बाद का कदम मानवता की सेवा करना है और अगला कदम ईश्वर की सेवा करना है।

यह भी पढिये -बेताल पच्चीसी – अधिक साहसी कौन ? विक्रम – बेताल की सत्रहवीं कहानी Who is more adventurous? Vikram – Betal Seventh Story In Hindi

YOU MAY LIKE
Loading...