देखी हैं ऐसी इमारतें? ईरानी मूल की आर्किटेक्ट हदीद की डिज़ाइन

0
24
ईरानी मूल की इस वास्तुकार को रॉयल इंस्टिट्यूट की तरफ से उनके काम के लिए गोल्ड मेडल दिया गया है. हदीद का जन्म 1950 में बगदाद में हुआ था और 1970 में ब्रिटेन में रहने के लिए चली गईं थीं. लंदन में रहने वाली इस डिज़ाइनर ने सर्पेन्टाइन सैक्लर गैलरी को डिज़ाइन किया था.

देखे तस्वीरें :-




हदीद ने हांगकांग में 1983 में आयोजित एक प्रतियोगिता जीती. इसमें उन्हें ‘द पीक लेज़र क्लब’ को डिज़ाइन करना था. हालांकि उनके डिज़ाइन पर बिल्डिंग का निर्माण नहीं हुआ लेकिन इस जीत ने उन्हें विश्व स्तर पर पहचान दिलाई.

ओलंपिक के लिए यहां 17,500 सीटें लगाई गईं थीं. लेकिन अब इनमें से अधिकतर को हटा दिया गया है जिससे इसका रोज़मर्रा में अधिक इस्तेमाल हो सके.

इस बिल्डिंग के लिए उन्होंने पर्ल नदी से प्रेरणा ली थी.


बाकू स्थित हेदर एलियेव सेंटर को 2012 में बनाया गया था.

हदीदा को 2004 में प्रिज़कर आर्किटेक्चर पुरस्कार दिया गया था. चीन के ग्वांगज़ू स्थित ऑपेरा हाउस को डिज़ाइन करने के लिए उन्हें यह पुरस्कार दिया गया था.

हदीद का कहना है कि वो नदियों और धाराओं की गति से प्रेरित होती हैं

हदीद कहती हैं, “मुझे लंदन एक्वेटिक्स सेंटर बहुत पसंद है क्योंकि यह मेरे घर के बहुत नज़दीक है.” इसे 2012 ओलंपिक खेलों के लिए बनाया गया था. इसकी छत किसी लहर जैसी लगती है.

कंकरीट की दीवारें बिल्डिंग की दीवारों को स्थिर करने में भी मदद करती हैं. यह बिल्डिंग एक ऐसी ज़मीन पर बनी है जहां भूकंप आने की काफी आशंक रहती है.

हदीद ने जर्मनी के शहर वील अम रेन के विट्रा फायर स्टेशन को भी डिज़ाइन किया था जो उनके लिए एक बड़ी कामयाबी रही. इस डिज़ाइन में उन्होंने ख़ास तरह के कंक्रीट का इस्तेमाल किया था. उनका कहना था कि उन्होंने फायर स्टेशन के आसपास के इलाके को ध्यान में रखकर इसे डिज़ाइन किया था.

द मैक्सी: म्यूज़ियम ऑफ 21वीं सेंचुरी आर्ट्स इन रोम. 2009 में बनाई गई.

फ्लूइड स्पेस नाम का कॉम्पलेक्स तीन इमारतों लाइब्रेरी, म्यूज़ियम और कॉन्सर्ट हॉल को जोड़ता हुआ. उन्होंने कहा कि इसका डिज़ाइन पर्वत शृंखला की आकृति पर आधारित है.


Source :bbc

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here