जानिए इलेक्ट्रिक कार और चार्जिंग स्टेशन के बारे में सब कुछ

इलेक्ट्रिक कार (ELECTRIC CAR ) आज के युग की सबसे बड़ी जरुरत बन गई है , हम आज कही भी जाने के लिए कार का इस्तेमाल करते है पर वे या तो पेट्रोल , डीजल से चलती है या किसी गैस से, पर ये सब पर्यावरण को बहुत नुकसान पहुचाती  है और बहुत महंगी भी पड़ती है ।

तो आइये हम समझते है की ये इलेक्ट्रिक कार क्या होती है , कैसे बनती है, कैसे चार्ज होती है, कितने की मिलती है , एक किलोमीटर चलने में क्या खर्चा आता है , उसकी बैटरी

कब बदलनी पड़ती है और ऐसे बहुत सवालों का जवाब यहाँ मिलेगा जो आप मन ही मन सोचते रहते थे पर उसका जवाब नहीं मिलता था ।

आइये सबसे पहले हम जानते है की इलेक्ट्रिक कार क्या होती है (What is an Electric car):-

इलेक्ट्रिक कार एक ऐसी कार होती है जो बैटरी के द्वारा चलती है जिसमे इंजन नहीं बल्कि मोटर लगी होती है और उस कार की बैटरी को बिजली से चार्ज किया जाता है । इसमें नार्मल कार जैसे ही बाकि चीज़े होती है बस फर्क इंजन और इंधन का होता है । ये कार पर्यावरण को नुकसान नहीं पहुचाती और काफी कम खर्च में काम आतीं है ।

आगे जानिए इलेक्ट्रिक कार कैसे चार्ज होती है ?

इलेक्ट्रिक कार को चार्ज करना बहुत आसान है , इन कारो को वैसे ही चार्ज कर सकते है जैसे आप अपना मोबाइल चार्ज करते है। इलेक्ट्रिक कार को  5 अम्पिर के साकेट से चार्ज किया जा सकता है ।

इलेक्ट्री कार को चार्ज करने का सामन्यतय: 3 तरीके का चार्जर अपनाया जाता है

  1. सामान्य चार्जर जो 8 से 12 घंटे में कार को पूरा चार्ज कर देता है ।
  2. दूसरा होता है ऐसा चार्जर जो 4 से 5 घंटे में कार को पूरा चार्ज कर देता है और
  3. इलेक्ट्रिक स्टेशन या पॉवर चार्जर जो कार को 80% तक ३० मिनट में चार्ज कर देता है ।

आइये जानते है तीनो तरीके के चार्जर के बारे में विस्तार से :-

पहला चार्जर जो कार को 8 से 12 घंटे में चार्ज करता है ये सबसे अच्छा होता है क्युकी इससे बैटरी  पर लोड नहीं पड़ता है और वह बहुत अच्छी रहती है और आप को इसके लिए सिर्फ 5 अम्पिर के सोकेट की ही जरुरत पड़ती है जो कही भी या घर में आसानी से मिल जाता है ।

दूसरा चार्जर होता है जो 4 से ५ घंटे में चार्ज कर देता है यह चार्जर सबसे ज्यादा चलन में होता है क्युकी इससे बैटरी पर ज्यादा असर भी नहीं पड़ता और बैटरी भी जल्दी चार्ज हो जाती है ।

तीसरा जो बहुत महत्वपूण चार्जर होता है वो होता है वह है इलेक्ट्रिक स्टेशन । जैसे रास्ते में कभी पेट्रोल या डीजल ख़तम हो जाता है तो हम किसी भी पंप  से तेल भरवा लेते है वैसेही यह भी रस्ते में होते है और जब भी चाहे ३० मिनट में अपनी गाड़ी ८०% तक चार्ज कर सकते है । पर इसका सबसे बड़ा नुकसान  है की यह बैटरी को बहुत नुकसान पहुचाते है और उसकी लाइफ भी कम कर देता है । ऐसे ही पॉवर चार्जर भी होते है जिससें आप खुद भी कही भी ३० मिनट में कार चार्ज कर सकते है बस वहा १५ अम्पिर  सोकेट होना चाहिए ।

आगे जानिए इलेक्ट्रिक कार चलाने का खर्चा कितना आता है :

जैसे पेट्रोल और डीजल की कार की एवरेज उसकी इंजन और गाड़ी के आकार के ऊपर होती है वैसे ही इलेक्ट्रिक कार की एवरेज भी वैसे ही बदलती है फिर भी इलेक्ट्रिक कार औसत में एक बार फुल चार्ज होने में करीब ३० यूनिट बिजली खाती है और एक बार फुल चार्ज होने पर 110 किलोमीटर तक चलती है यानि 30 यूनिट बिजली की कीमत करीब 30*6=180 रुपये है और इसमें करीब १०० किलोमीटर तक चलती है जो करीब प्रति किलोमीटर 1.80 रुपय होती है । फिर भी यह पेट्रोल जोकि करीब 6 रूपए प्रति किलोमीटर या डीजल में 4 रूपए प्रति किलोमीटर के खर्चे से काफी कम है । पर कुछ इलेक्ट्रिक कार का खर्च सिर्फ १ रुपए प्रति किलोमीटर भी आ सकता है ।

अब पढ़िए इलेक्ट्रिक कार की बैटरी से जुड़े कुछ सच :-

इलेक्ट्रिक कार की बैटरी की साइज़ बहुत छोटी होती है पर ये काफी अच्छा बैकअप देती है । इलेक्ट्रिक कार की बैटरी की लाइफ कम होती और यह करीब 3 से 5 साल होती है । इलेक्ट्रिक कार की बैटरी की कीमत करीब करीब 1 लाख होती है जो आने वाले समय में घट भी सकती है। बेहतर यह होगा की आप महीने का 2000 बांध ले बैटरी पर और उसे अलग कही जमा करते रहे , और मान ले की गाड़ी पर प्रति माह यह भी खर्चा होना है तो आपको 4-5 साल बाद बैटरी बदलने में दिक्कत नहीं होगी ।

जाने कौन कौन सी इलेक्ट्रिक कार भारत में है और कौन सी आने वाली है :-

भारत में इस समय बहुत ही कम इलेक्ट्रिक कार है जिसमे महिंद्रा की E20 प्लस , महिंद्रा इ-वैरिटो,और टेस्ला शामिल है जिनकी कीमत ४-५ लाख से शुरू होकर 50 लाख तक जाती है ।

कुछ और भी गाडिया हाइब्रिड मॉडल पर चल रही है पर अभी पूरी तरह से मार्किट में नहीं आ पाई है ।
भारत में आने वाला समय इलेक्ट्रिक कार के लिए बहुत ही शानदार रहने वाला है यहाँ बहुत सारी कम्पनी अपनी अपनी गाड़ी लौंच करने जा रही है |  निसान (Nissan) अपनी कार लीफ भारत में लाने जा रही है जिसने दुनिया भर में इलेक्ट्रिक आकार के सेगमेंट में धूम मचा दी है ।

अब तो भारत सरकार ने भी प्रण ले लिया है के पर्यावरण को देखते हुए वे २०३० तक सारी सरकारी गाडिया इलेक्ट्रिक में बदल देंगे  चाहे वो कार हो या बस हो । भारत में २०१८ से एक ऐसा आन्दोलन चलेगा जो कार के सेगमेंट को पूरा बदलने का दम रखेगा । सरकार की उम्मीद है की २०२२ आते आते ज्यादातर गाडिया इलेक्ट्रिक में बदल जाएंगी और २०३० आते आते ८० % गाडिया इलेक्ट्रिक ही बचेंगी जो एक बहुत बड़ी बात है भारत जैसे देश के लिए । अगर ऐसा हुआ तो इन इलेक्ट्रिक कार की कीमत में भी काफी गिरावट आ जाएगी और इसमें कुछ  एडवांस टेक्नोलॉजी (Advance Technology)भी जोड़ी जा सकेगी ।

जाने आप अपनी पेट्रोल या डीजल वाली गाड़ी को इलेक्ट्रिक कैसे बना सकते है :-

जैसे की  मैंने बताया की आने वाला साल भारत के लिए कार जगत में बहुत ही महत्वपूर्ण  रहने वाला है इसी लिए सभी स्कूल-कॉलेज में रिसर्च (Research) शुरू हो चुकी है और कुछ संस्था का यह भी मानना  है की पेट्रोल या डीजल वाली कार को इलेक्ट्रिक कार में बदला जा सकता है और उन्होंने यह भी बताया है के यह सब १२५००० रूपए में किया जा सकता है और अगर इस पर काम किया जाए तो यह  कीमत काफी हद्द  तक घट  भी सकती है ।

जैसा की सभी को पता है की दिल्ली की सरकार पुरानी सभी गाडियो को बंद करने का आदेश दे चुकी है और बाकि राज्य की सरकार भी इसपर विचार कर रही है । अगर यह प्रयोग किया जाए तो किसी को भी अपनी प्यारी कार को हटाना नहीं पड़ेगा और पर्यावरण को भी नुकसान नहीं होगा ।

सरकार को इसपर विशेष ध्यान देना चाहिए और जितना हो सके इसे बढ़ावा देना चाहिए ।

आशा करता हूँ कि यह पोस्ट आपको अच्छा  लगा होगा, आप अपना विचार हमें mail कर के या comment कर के बताएं | कृपया करके ये पोस्ट सबको WHATSAPP और FACEBOOK पर शेयर करे और सभी को इस बात से अवगत करे धन्यवाद ।