अगर आप भी लगाते है अलार्म तो हो जाईये सावधान ,नही तो आगे पड़ेगा पछताना ..

सुबह सुबह मोबाइल का अलार्म बंद करके फिर से सो जाना किसी स्वर्ग के सुख से कम नही होता है पर ऐसा करके आप कितनी बड़ी मुसीबत मोल ले रहे हैं, यह शायद किसी को भी नहीं मालूम होगा। हो सकता है कि यह खबर पढ़ने के बाद आप अपने मोबाइल का अलार्म स्‍नूज करना ही भूल जाऐं।

अलार्म बंद करके सोने के नुकसान ,गज़ब दुनिया
अलार्म बंद करके सोने के नुकसान ,गज़ब दुनिया

एक इंटरनेशनल रिसर्च के अनुसार सोते समय जब अचानक अलार्म बजता है तो उसे सुनकर हमारे दिल की धड़कन नार्मल से कई गुना तक बढ़ जाती है और बल्ड प्रेशर भी बढ़ जाता है। अब अगर हम मोबाइल के अलार्म को 3 से 4 बार स्‍नूज करें तो उतनी ही बार आप अपने दिल की धड़कन पर जोर का झटका धीरे से देते हैं। दिन महीने और साल के हिसाब से अगर रोज ही अपने मोबाइल के अलार्म को बार-बार आगे बढ़ाऐंगे तो आपके दिल पर उस अलार्म से पढ़ने वाला बोझ कुछ ज्यादा ही हो जाएगा।

अलार्म बंद करके सोने के नुकसान ,गज़ब दुनिया
अलार्म बंद करके सोने के नुकसान ,गज़ब दुनिया

रिसर्च के मुताबिक हम सभी को कम से कम 6 से 7 घंटे की नींद जरूर लेनी चाहिए। कुछ लोगों को लगता है कि सिर्फ 4 या 5 घंटे की नींद में ही उनका काम चल जाएगा तो ऐसा सोचने वालों को रिसर्च बताती है कि जो लोग 6 घंटे से कम सोते हैं उन लोगों में डिप्रेशन और आत्महत्या की प्रवृत्ति नॉर्मल लोगों से कुछ ज्यादा ही होती है। यहीं नहीं कम सोने वालों को डिप्रेशन और अल्‍जाइमर की बीमारी होने की पॉसिबिलिटी भी औरों से ज्‍यादा होती है तो जनाब जितने घंटे आपको सोने की छूट मिले सोईये , लेकिन उसके बाद अलार्म बजते हैं फटाफट उठ जाइए और अपने खूबसूरत से दिल पर और बोझा मत बढ़ाइए।

अलार्म बंद करके सोने के नुकसान ,गज़ब दुनिया
अलार्म बंद करके सोने के नुकसान ,गज़ब दुनिया