शिमला को लेकर 38 ऐसी बातें जिन्हें एक हिमाचली भी मुश्किल से ही जानता होगा…

0
1728
शिमला जिसे अंग्रेजों ने ग्रीष्मकालीन राजधानी के तौर पर स्थापित किया था. शिमला जो हिमालय की तराइयों में कुछ ऐसे बसा है कि वहां पहुंच कर व्यक्ति ख़ुद के और भी नज़दीक पहुंच पाता है. तो इसी सभी के मद्देनज़र हम आप सभी को रू-ब-रू करा रहे हैं शिमला के बाबत कुछ ऐसे ही तथ्यों से जिन्हें आप शायद ही जानते हों…
38. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ एडवांस्ड स्टडीज- आई.आई.ए.एस के पास सन् 1888 में ही बिजली सप्लाई के लिए अपनी समुचित व्यवस्था थी. इसे सन् 1884 में लॉर्ड डफरिन के आवास हेतु बनवाया गया था, जो आज आई.आई.ए.एस हाउस के तौर पर जाना जाता है.
37. नाथूराम गोडसे का ट्रायल यहीं चला था, जिसे आज पीटरहॉफ होटल के तौर पर जाना जाता है.
इस बिल्डिंग में कभी सात वायसराय रहा करते थे, और कभी यहीं से पंजाब का हाईकोर्ट भी चला करता था.
36. अंग्रजों से पहले शिमला के क्षेत्र पर नेपाल का शासन चला करता था. शिमला अंग्रेजों से पहले नेपाल के पृथ्वी नारायण शाह के साम्राज्य के अंतर्गत आया करता था. इसे सन् 1864 में ग्रीष्मकालीन राजधानी घोषित किया गया था.
35. शिमला को हमारे देश के सबसे जवां और युवा शहर के तौर पर शुमार किया जा सकता है.
यहां की 55 प्रतिशत जनसंख्या 16 से 55 के बीच की है और बाकी की बची संख्या में 28 प्रतिशत तो 15 साल से भी नीचे हैं.
34. शिमला सात चोटियों पर स्थित है. सर्दियों में प्रोस्पेक्ट हिल, इसके अलावा 6 हिल्स हैं ऑब्जर्वेटरी हिल, समर हिल, इन्वेरार्म हिल, बैंटोनी हिल, जाखू हिल और इलिसियम हिल.
33. शिमला एम.टी.बी हिमालया की मेजबानी करता है, जिसे साउथ ईस्ट एशिया के सबसे बड़े और भव्य माउंटेन बाइकिंग रेस के तौर पर जाना जाता है.
32. कालका-शिमला रेलवे को यूनेस्को ने वैश्विक धरोहर के तौर पर मान्यता दी है. कालका से शिमला रूट पर 806 पुल हैं और 103 सुरंगें हैं.