मध्यकाल में सजा देने के वो दर्दनाक तरीके जिन्हें देखकर आपकी रूह काँप जाएगी ,जानिए इनके बारे में ..

मध्यकाल में टॉर्चर के ऐसे ही एक से बढ़कर एक खतरनाक तरीके होते थे जिससे की रूह कांप जाये। आईये जानते है कंपा देने वाले उन क्रूर तरीको को जिससे उस समय सजा दी जाती थी……

1.धारदार लकड़ी पर बिठाया जाता था –

इस सजा में दोषी को नंगा करके घोड़े जैसे स्ट्रक्चर पर बैठा दिया जाता था। इसके साथ ही दोनों पैरों में पथ्थर से वजन लटका दिया जाता था, जो उसे नीचे की ओर खींचता रहता था । इससे अपराधी का शरीर दो आधे-आधे हिस्से में बंट जाता था और धीरे-धीरे खून रिसता रहता था जिससे दोषी तड़प-तड़प कर मौत हो जाती थी।

पुराने ज़माने में सजा देने के क्रुर तरीके ,गज़ब दुनिया
पुराने ज़माने में सजा देने के क्रुर तरीके ,गज़ब दुनिया

2.शरीर को एक धारदार हथियार से बीच में से काट दिया जाता था –

इस सजा में दोषी को पैरों से बांधकर उल्टा लटका दिया जाता था। ऐसे में खून सिर के हिस्से में उतर जाता है और इसके चलते कैदी यातना दिए जाने के दौरान होश में रहता है। इसके बाद बंधक के शरीर को दोनों पैरो के बीच से काट दिया जाता है।

पुराने ज़माने में सजा देने के क्रुर तरीके ,गज़ब दुनिया
पुराने ज़माने में सजा देने के क्रुर तरीके ,गज़ब दुनिया

3.कील वाली कुर्सी पर बांध दिया जाते थे लोग –

टॉर्चर का ये तरीका 1800 तक यूरोप में इस्तेमाल किया गया। ‘जुदास चेयर’ काल कोठरी का हिस्सा हुआ करती थी। इस कुर्सी के हर हिस्से पर लोहे की कीलों की लेयर होती थी। इस पर अपराधी को बांध दिया जाता है। और इस तरह उसके शरीर में कीले बुरी तरह चुभ जाती थी और खून बहने से कैदी की मौत हो जाती थी।

पुराने ज़माने में सजा देने के क्रुर तरीके ,गज़ब दुनिया
पुराने ज़माने में सजा देने के क्रुर तरीके ,गज़ब दुनिया

4.चक्के पर बांध कर तोड़ी जाती थीं हड्डियां –

टॉर्चर का ये क्रूर तरीका मध्यकाल में इस्तेमाल किया गया। इसका सार्वजनिक तौर पर मौत की सजा के लिए इस्तेमाल किया जाता था। चक्के पर कैदी को लिटाकर बांध दिया जाता था और उसे घुमाया जाता था जिससे उसकी हड्डियाँ टूट जाती थी और जब तक जान नहीं चली जाती थी तब तक चक्का घूमता रहता था। वैसे इस क्रूर तरीके से जर्मनी में 19 वीं शताब्दी तक सजा दी जाती थी।

पुराने ज़माने में सजा देने के क्रुर तरीके ,गज़ब दुनिया
पुराने ज़माने में सजा देने के क्रुर तरीके ,गज़ब दुनिया

5.धारदार डिवाइस से अलग कर देते थे सिर –

मौत की सजा देने का ये बेहद ही खतरनाक तरीका था। गिलोटिन नाम की धारदार डिवाइस में फ्रेम के बीच रेजर से भी तेज ब्लेड लगा होता था। फ्रेम के बीच कैदी का सिर रखा जाता है और ब्लेड नीचे गिरते ही सिर धड़ से अलग हो जाता है। हालांकि, ये तरीका टॉर्चर के बाकी तरीकों से कम दर्दनाक है।

पुराने ज़माने में सजा देने के क्रुर तरीके ,गज़ब दुनिया
पुराने ज़माने में सजा देने के क्रुर तरीके ,गज़ब दुनिया

6.गर्दन को कांटेदार फ्रेम से बांधा जाता था –

सजा का ये तरीका बहुत ही दर्दनाक होता था। इसमें कैदी को लकड़ी या मेटल से बने नुकीले कांटेदार फ्रेम के बीच बांध दिया जाता था। इसमें न तो वो सिर जमीन पर टिका सकता था और न ही खा-पी सकता था। यहां तक कि इसमें सिर हिलाना भी मुश्किल था।

पुराने ज़माने में सजा देने के क्रुर तरीके ,गज़ब दुनिया
पुराने ज़माने में सजा देने के क्रुर तरीके ,गज़ब दुनिया

7.नुकीले खम्भे पर बैठाए जाते थे कैदी –

सजा का ये तरीका 15वीं शताब्दी में रोमानिया में बहुत इस्तेमाल किया जाता था। इसमें एक नुकीले पोल पर कैदी को बैठाया जाता था। धीरे-धीरे ये उसके शरीर में घुसता जाता था और दो से तीन दिन में कैदी की दर्दनाक मौत हो जाती थी।

पुराने ज़माने में सजा देने के क्रुर तरीके ,गज़ब दुनिया
पुराने ज़माने में सजा देने के क्रुर तरीके ,गज़ब दुनिया