जाने इतिहास में अब तक के सबसे बड़े 25 साम्राज्य के बारें में !

दुनिया के सबसे बड़े साम्राज्य की बात की जाए, तो यकीनन आप रोमन साम्राज्य का नाम लेंगे, या फिर ग्रीक साम्राज्य नहीं तो ऑटोमन साम्राज्य या रूसी साम्राज्य का नाम तो ले ही लेंगे। पर असल में ये दुनिया के सबसे साम्राज्य की लिस्ट में आते तो हैं, पर हैं नहीं।



पढ़िए : दुनिया के 25 सबसे बड़े साम्राज्यों के बारे में….

25. ऑटोमन साम्राज्य:

तुर्की साम्राज्य के नाम से भी जाना जाने वाले ऑटोमन साम्राज्य की स्थापना सन 1453 में मेहमद द्वितीय ने की थी। ऑटोमन साम्राज्य 623 सालों तक चला और प्रथम विश्वयुद्ध के बाद तबाह होकर खत्म हुआ। इसे खत्म करने में अहम भूमिका निभाई विश्वयुद्ध की हार और मुस्तफा कमाल अतातुर्क पाशा की बगावत ने। जिन्होंने तुर्की को धर्मनिरपेक्ष देश बनाया। अपने चरम के समय ये साम्राज्य एशिया, यूरोप और अफ्रीका में सुदूर तक फैला हुआ था।

24. मकदूनिया का साम्राज्य:

सिकंदर महान ने सपना देखा था कि वो दुनिया का हर कोना जीत लेगा। हर महासागर का तट उसके कब्जे में होगा। इसके लिए उसने बड़ा अभियान चलाया और भारत के पश्चिमी हिस्से तक को जीत लिया।

23. तैंग साम्राज्य:

80 मिलियन की आबादी वाला तैंग साम्राज्य सन 618 से 907 तक अस्तित्व में रहा। इस दौरान चीन में कला और संस्कृति का खूब विकास हुआ।

22. किपचक साम्राज्य(बातू खान का साम्राज्य):

ये साम्राज्य 13वीं से 14वीं शताब्दी तक लगभग सौ सालों तक अस्तित्व रहा। जो महान मुगल साम्राज्य(मंगोलियाई साम्राज्य, भारतीय मुगलों से भ्रमित न हों) के बाद पनपा। इन्हें गोल्डन होर्ड भी कहा गया।

21. मौर्य साम्राज्य:

इस लिस्ट में शामिल मौर्य साम्राज्य की स्थापना चंद्रगुप्त मौर्य ने की थी। जिसमें अशोक महान जैसा शासक हुआ। मौर्य साम्राज्य ने सैनिक, धार्मिक, बौद्धिक स्तर पर खासी प्रगति की।

20.प्रथम तुर्की साम्राज्य(गोरतुर्क साम्राज्य):

तुर्की के इस साम्राज्य ने शताब्दियों तक दुनिया में अपना दबदबा बनाए रखा। सन 552 से बाद से कई शताब्दियों तक तुर्किश साम्राज्य दुनिया की महाशक्ति बना रहा।

19. नाजी जर्मनी:

जर्मनी का स्वर्णि काल प्रथम विश्वयुद्ध के बाद हिटलर की कमान में आने के बाद आया। हिटलर ने जर्मनी को दुनिया की महाशक्ति बनाया और अधिकतर देशों को हारने पर मजबूर कर दिया। थोड़े समय तक ही सही, दुनिया के हर महाद्वीप के हिस्सों पर जर्मनी का कब्जा हो गया था।

18. हान साम्राज्य:

हान साम्राज्य को चीनी इतिहास का स्वर्णिम काल कहा जाता है। 400 सालों तक हान साम्राज्य ने अपना दबदबा बनाकर रखा। आज भी चीन में हान समुदाय के लोगों की ही बहुलता है।

17. रोमन साम्राज्य:

रोमन साम्राज्य ने लगभग 1500 सालों तक अपना दबदबा कायम रखा। इस दौरान यूरोप भाषाई, धार्मिक, निर्माण, दर्शन इत्यादि मामले में दुनिया से आगे निकल गया।

16. मिंग साम्राज्य:

महान मिंग का ये साम्राज्य चीन का दूसरा आखिरी साम्राज्य रहा। मिंग साम्राज्य को मानवीय इतिहास के सबसे व्यवस्थित साम्राज्य के तौर पर गिना गया। इसपर हान समुदाव के दोनों का प्रभुत्व रहा। मिंग साम्राज्य की नींव पर की किंग साम्राज्य खड़ा हुआ।

15. सस्सनिद(फारसी)साम्राज्य:

ये साम्राज्य फारस के सबसे सुनहरे दौर के तौर पर याद किया जाता है। इस समय फारस का साम्राज्य पश्चिमी यूरोप, अफ्रीका, भारत और चीन तक फैला हुआ था। इसी साम्राज्य के दौर में यूरोप में विकास का युग शुरू हुआ।

14. जापानी साम्राज्य:

जापानी साम्राज्य द्वितीय विश्वयुद्ध में बर्बाद होने से पहले काफी विस्तृत रूप धारण कर चुका था। और इसकी कीमत उसे नागाशाकी-हिरोशिमा की बर्बादी के तौर पर चुकाना पड़ा। लगभग समूचे पूर्वी और दक्षिण एशिया पर जापान का कब्जा था। युद्ध में रूस-चीन को हराने के साथ ही अमेरिका को भी पीछे धकेलने वाले बहादुर जापानियों का ये साम्राज्य हालांकि अस्थिर ही रहा। पर एक समय 7 मिलियन स्क्वॉयर किमी की जमीन जापानी साम्राज्य के कब्जे में थी।


13. पर्सियन(फारस) साम्राज्य:

साइरस महान के नेतृत्व में फारसी साम्राज्य ने 6वीं शताब्दी में ग्रीस से लेकर गंगा नदी तक अपना झंडा गाड़े रखा। एक समय इस साम्राज्य के अंदर दुनिया की आबादी का 44फीसदी हिस्सा आता था।

12. ब्राजीली साम्राज्य:

पुर्तगाल से हारने के पहले ब्राजीली साम्राज्य अपने चरम पर था। पेड्रो 1, पेड्रो II के शासलकान में ब्राजीली साम्राज्य खूब फला फूला। ये साम्राज्य धीरे धीरे घटता रहा और 1888 में पूरी तरह से समाप्त हो गया।

11. खलीफा राशिद का शासनकाल:

खलीफा राशिद के शासनकाल में इस्लामी साम्राज्य गंगा नदी के तट तक विस्तार पा चुका था, तो उत्तरी अफ्रीका, खुरासान के महान राज्य तक पर इनका कब्जा था। साइप्रस से लेकर इरान का प्राचीन साम्राज्य भी ध्वस्त हो चुका था।

10. पुर्तगाली साम्राज्य:

सन 1415 से फैलाव शुरू करने वाला पुर्तगाली साम्राज्य 2002 तक दुनिया के सबसे बड़े साम्राज्यों में से एक बना रहा। सन 2002 में पूर्वी तिमोर ने पुर्तगाल से आजादी ली। वहीं, 1999 में मकाऊ को चीन को सौंप दिया गया। आज पुर्तगाली साम्राज्य के तहत आने वाले क्षेत्र 53 देशों में बंट चुके हैं। इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि पुर्तगाली साम्राज्य कितना बड़ा रहा होगा।

9. अब्बासी साम्राज्य:

उम्मायद वंश के राज के बाद अब्बासी साम्राज्य अस्तित्व में आया। और इसने मक्का की जगह बगदाद को अपनी राजधानी बनाया। अब्बासी साम्राज्य को इस्लाम का स्वर्णिम काल भी कहा गया। इस दौरान विज्ञान, दर्शन और शिक्षा के क्षेत्र में अभूतपूर्व तरक्की हुई।

8.फ्रेंच कालोनियल साम्राज्य:

ब्रिटिश साम्राज्य के साथ ही फ्रेंच साम्राज्य भी काफी फला फूला। 17वीं शताब्दी से लेकर 1960 के दशक तक फ्रेंच साम्राज्य अफ्रीका, एशिया और अमेरिका महाद्वीप तक फैला रहा।

7. युआन साम्राज्य:

कुबलई खान के नेतृत्व में ये साम्राज्य 11वीं शताब्दी में अपने चर्मोत्कर्ष पर रहा। कुबलई खान ने महान खान की उपाधि धारण की।

6. किंग साम्राज्य:

उत्तरी पूर्वी चीन में केंद्रित किंग साम्राज्य चीन के इतिहास का सबसे बड़ा साम्राज्य रहा।

5. उम्मायद साम्राज्य:

अरब के स्वर्णिम काल में उम्मायद वंश का साम्राज्य 5 मिलियन स्क्वॉयर मील तक फैला हुआ था। ये साम्राज्य अबतक का सबसे व्यवस्थित साम्राज्य ता। मक्का इसकी राजधानी रही।

4. स्पेनिश साम्राज्य:

स्पेनिश साम्राज्य अपने चरम तक जब था, तब उसका कब्जा ओसेनियाई क्षेत्र, एशिया, अफ्रीका और उत्तरी अमेरिका तक था। वहीं, यूरोप का बड़ा हिस्सा भी स्पेनिश साम्राज्य का अंग रहा।

3. रूसी साम्राज्य:

जार के समय में रूसी साम्राज्य दुनिया के तीसरे सबसे बड़े साम्राज्य के तौर पर स्थापित रहा। आखिरी रूसी साम्राज्य 1721 से 1917 तक चला। सन 1897 के हिसाब के देखें, तो पूर्वी यूरोप, समूचा उत्तरी-मध्य एशिया, उत्तरी अमेरिका तक रूसी साम्राज्य का फैलाव रहा।

2. मुगल साम्राज्य:

ये मुगल साम्राज्य भारत का नहीं, बल्कि मूल मंगोलियाई साम्राज्य था। चंगेज खान के नेतृत्य में मुगल साम्राज्य ने अपनी पताका मंगोलिया, चीन, रूस के कुछ भाग, यूरोप के पूर्वी भाग, और अरब प्रायद्वीप तक फैला हुआ था।

1. ब्रिटिश साम्राज्य:

एक ऐसा साम्राज्य, जिसमें कभी सूरत अस्त नहीं होता था। 3.37 करोड़ किमी एरिया कवर करने वाले ब्रिटिश साम्राज्य में अब भी सूरज कभी अस्त नहीं होता। क्योंकि ग्रेट ब्रिटेन के कब्जे में दुनिया मंं भर 37 दूरस्थ प्रदेश हैं, जो टापुओं के रूप में फैले हुए हैं।